7 जजों की बेंच तय करेगी सबरीमाला मंदिर में महिलाओं की एंट्री

नई दिल्ली/ शाहिद खान। सबरीमाला मंदिर से जुड़ी पुनर्विचार याचिका को आज सुप्रीम कोर्ट ने 7 जजों की बेंच के हवाले कर दिया। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने हर उम्र की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश और पूजा-पाठ की इजाज़त दी थी। अदालत के इस फैसले को परंपरा पर चोट बताते हुए फैसले के खिलाफ कई पुनर्विचार याचिकाएं दायर की गई थीं। जिन पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि महिलाओं की प्राकृतिक अवस्था को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता लेकिन महिलाओं के प्रवेश पर विवाद सिर्फ मंदिरों तक सीमित नहीं है, मस्जिदों पर भी ऐसे ही सवाल उठते हैं। सबरीमाला में फिलहाल यथास्थिति बनी रहेगी। यानी हर उम्र की महिलाएं मंदिर में दाखिल होकर पूजा-अर्चना कर सकेंगी। पुनर्विचार याचिकाओं में अदालत से मांग की गई है कि सबरीमाला मंदिर में प्रवेश पर पाबंदी बरकरार रखी जाए।