सड़कों पर नमाज नहीं रोक सकता, तो थानों में जन्माष्टमी क्यों रोकूं- योगी आदित्यनाथ

लखनऊ/ मणिंद्र तिवरी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि देश में एक कानून है और वह सबके लिए बराबर होता है। यह धर्म पर भी लागू होगा है। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अगर ईद को सड़क पर नमाज पढ़ी जा सकती है तो कांवड़ यात्रा में माइक, डीजे पर रोक लगाकर इसे क्यों शवयात्रा बनाने चाहते हैं।

इसके अलावा सीएम ने कहा कि अगर धर्मस्थलों से आवाज पर रोक की बात है तो किसी भी धर्मस्थल से आवाज नहीं आनी चाहिए। योगी आदित्यनाथ ने एक कार्यक्रम में कहा कि हमारी सरकार ने नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल और सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार ही अवैध बूचड़खानों को प्रतिबंधत लगाया। योगी ने कहा कि हमें राम और कृष्ण की परंपरा पर गर्व करने वाला भारत चाहिए। इसके लिए इतिहास को समग्रता में बताना होगा। उस इतिहास को भी जब भारत बल, बुद्धि और विद्या में सिरमौर था।

योगी ने कहा कि मैंने अधिकारियों से सभी धार्मिक स्थलों पर माइक बैन करने का आदेश पारित करने को कहा था। अगर इसे लागू नहीं कर सकते हैं तो कांवड़ यात्रा में भी माइक पर बैन नहीं होगा, ये यात्रा ऐसे ही चलेगी। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी के लोग जो खुद को यदुवंशी कहते हैं, उन्होंने पुलिस स्टेशन और पुलिस लाइंस में जन्माष्टमी के आयोजनों पर रोक लगाई थी। उन्होंने कहा कि भारत में सभी धर्म के लोगों को अपनी आस्था का पालन करने की आज़ादी है।