यात्रा का उद्देश्य न केवल स्वच्छता का प्रचार करना बल्कि स्वच्छता की शिक्षा भी देना -स्वामी चिदानन्द सरस्वती

ऋषिकेश। आज परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष एवं ग्लोबल इण्टरफेथ वाश एलायंस के सह-संस्थापक स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज के मार्गदर्शन एवं संरक्षण में परमार्थ निकेतन से ऐतिहासिक स्वच्छता यात्रा बिहार के लिये रवाना हुई। पूज्य स्वामी जी एवं साध्वी भगवती सरस्वती जी ने इस यात्रा को स्वच्छता झंडी दिखाकर रवाना किया।
यह स्वच्छता यात्रा स्वच्छ भारत मिशन एवं लोहिया स्वच्छ बिहार अभियान को सहयोग तथा स्वच्छता, शौचालय एवं स्वास्थ्य के प्रति लोगो को जागरूक करेंगी। बेगुसराय, बिहार में 17 अक्टूबर से आयोजित मेला, छठ महोत्सव जैसे आयोजनों में जाकर स्वच्छता प्रहरी स्वच्छता संगीत, स्वच्छता नारों, शार्ट फिल्म, विभिन्न धर्मगुरुओं के संदेश, नुक्कड़ नाटक, पपेट शो, चित्रकला एवं अन्य प्रतियोगिताओं के माध्यम से लोगो को स्वच्छता एवं शौचालय का संदेश देंगे।
ग्लोबल इण्टरफेथ वाश एलायंस के तत्वाधान में आयोजित यह यात्रा तीन माह तक बिहार के विशेष धार्मिक स्थलो, मेला क्षेत्र के जाकर शौचालय का निर्माण एवं प्रयोग एवं स्वच्छता के प्रति जागरूकता के साथ वहां की सरकार एवं स्थानीय अधिकारियों के साथ मिलकर इस अभियान को आगे बढ़ायेंगे एवं प्रशिक्षण देंगे।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने कहा कि ’इस यात्रा के माध्यम से हम न केवल स्वच्छता का प्रचार करेंगे बल्कि लोगो को स्वच्छता की शिक्षा भी देंगे। मुझे विश्वास है इसके माध्यम से लोगो के विचार एवं व्यवहार में निश्चित परिवर्तन आयेगा लोग स्वच्छता को हृदय से अंगीकार करेंगेे। हमारे इस प्रयास से बिहार में स्वच्छता का शक्तिशाली एवं प्रेरणादायक संदेश जायेगा जिसके परिणाम भी विलक्षण होंगे।’
जीवा की अन्तर्राष्ट्रीय महासचिव साध्वी भगवती सरस्वती जी ने कहा कि ’यह यात्रा स्वच्छ भारत अभियान को मजबूत करने में एक सशक्त कदम साबित होगी; इसके माध्यम से हमें  निश्चित रूप से स्थायी एवं बेहतर परिणाम प्राप्त होंगे। यह स्वच्छता यात्रा हमारे भाई, बहनों एवं बच्चों को स्वच्छता का संदेश एवं स्वस्थ जीवन देेने में नींव का पत्थर सिद्ध होंगी।’
स्वच्छता यात्रा सैमुअल, टोपो, राजेन्द्र बोरा, ओमप्रकाश पाल के नेतृत्व में बिहार के लिये रवाना हुई। इस यात्रा को स्वामिनी आदित्यनन्दा, नन्दिनी त्रिपाठी, रेणुका राणा, दीपक, परमार्थ गुरूकुल के ऋषिकुमारों ने स्वच्छता झंडी दिखाकर विदा किया।