संगम के तट पर शक्ति, भक्ति और शान्ति का संगम

प्रयागराज/ विकास बघेल। कुम्भ मेला प्रयागराज में पहली बार विश्व के विभिन्न धर्मों के अनेक धर्मगुरूओं, राजनेताओं और तकनीक विशेषज्ञों ने ” SHC ग्लोबल समिट” का दीप प्रज्जवलित कर उद्घाटन किया। इस ऐतिहासिक समिट का आयोजन परमार्थ निकेतन शिविर सेक्टर 18 अरैल क्षेत्र में किया गया। 
बाल विवाह, लिंग आधारित असमानता, मासिक धर्म, महिला सशिक्तकरण, महिला उत्थान हेतु संगम के पावन तट ’शक्ति कुम्भ शिखर सम्मेलन’ का आयोजन किया गया ताकि कुम्भ में आये लाखों श्रद्धालुओं का मार्गदर्शन किया जा सके।
यह कार्यक्रम ग्लोबल इण्टरफेथ वाश एलायंस, परमार्थ निकेतन के तत्वाधान WSSCC और यूनिसेफ के सहयोग से, महिला और बाल विकास विभाग, उत्तर प्रदेश सरकार के प्रयासों से आयोजित किया जा रहा है।
लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने कहा, “यह शक्ति कुम्भ का मंच नहीं बल्कि व्यासपीठ है। जिन्होने पूरा जीवन समाज के लिये समर्पित किया ऐसी महान विभूतियों का महासंगम परमार्थ निकेतन शिविर में हुआ है जो चाहते है कि भारत में रहने वाले प्रत्येक व्यक्ति का कल्याण हो आज उस शक्ति को जगाने का कार्य इस समिट के माध्यम से हो रहा है यह अत्यंत प्रसन्नता का विषय है। 
केन्द्रीय राज्य मंत्री भारत सरकार सत्यपाल सिंह ने कहा कि समाज और देश के अन्दर जितनी भी अपराध रूपी बीमारियां है इन सब के समाधान का एक ही अमृत कलश है वह है नारियों का सश्क्तिकरण। जिस दिन नारियों का सश्क्तिकरण होगा उस दिन इस देश की सारी समस्याओं का समाधान होगा।
उत्ततप्रदेश सरकार में मंत्री रीता बहुगुणा ने कहा कि मनुष्य को जो भी चीजें जो जीवनदायिनी है वह सभी माँ के स्वरूप से ही प्राप्त हुयी  है। संसार की सारी शक्तियों की संचालक नारी शक्ति ही है अतः महिलाओं को गर्व होना चाहिये कि मैं महिला हूँ।
परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने कहा कि ’’संगम के पावन तट पर यह एक बहुत ही ऐतिहासिक घटना है। हम यहां पर हम सभी उन मुद्दों पर बात करने वाले है जिसके कारण आज पूरा विश्व परेशान है, कुम्भ एक शानदार अवसर है इसके माध्यम से हम दुनिया के अनेक लोगों तक संदेश पहुंचा सकते है। पहली बार वर्ष 2001 के कुम्भ में ग्रीन और क्लीन कुम्भ का संदेश प्रसारित किया था। आज हम सभी बाल विवाह, मासिक धर्म, महिला सशिक्तकरण जैसे मुद्दों पर अपनी चुप्पी तोड़कर एकजुट होकर नये विश्व के निर्माण का संकल्प लें। उन्होनेेेे कहा कि “हम स्वयं परिवर्तन बनें और परिवर्तन लाएं।”
जीवा की अन्तर्राष्ट्रीय महासचिव साध्वी भगवती सरस्वती ने कहा कि छोटे बच्चों की शादी करना मानवता के खिलाफ अपराध है इसमें शारीरिक, सांस्कृतिक, आध्यात्मिक और भावनात्मक स्तर पर बदलाव करने की जरूरत है। युवाओं को शिक्षा के साथ संस्कारों की भी नितांत आवश्यकता है। आज समाज को सीएसआर कार्पोरेट सोशल दायित्व, के साथ कथाकार सोशल दायित्व भी जरूरी है। ताकि कथाओं और आध्यात्मिक आयोजनों के साथ समाज को जागरूकता का संदेश दिया जा सके।
साध्वी जी ने कहा समाधान का अर्थ है कि हम समाधान है, हमें  अपने विचारों और व्यवहार को बदलना होगा तभी हम एक बेहतर राष्ट्र का निर्माण कर सकते है।
गुरू माँ आनन्दमूर्ति जी ने नारियों से आह्वान किया कि नारियाँ अपना स्वयं का सम्मान करना सीखे। विद्या, ज्ञान, तपस्या का अधिकार सभी का है। उन्होने कहा कि हर नारी स्वयं एक मद्ालसा बनें; रानी लक्ष्मीबाई बनें वह स्वयं एक सशक्ता होकर आगे बढ़े।
बेस्रिया और हर्जिगोविना के पूर्व प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति हरिस सिलाज्दिविक ने कहा कि यह संगम संस्कृतियों के आदान-प्रदान का संगम है। हमें अपनी तकनीक का उपयोग सही दिशा में करना चाहिये तभी हम दुनिया में परिवर्तन ला सकते है।
बिन्नी सरीन जी ने कहा कि हम सभी जागरूकता का संकल्प करे हमें अपने समुदाय में अपने बच्चों को श्रेष्ठ नेता बनाने की जरूरत है।
माँ करूणामयी अम्मा जी ने कहा की भारतीय महिलायें आध्यात्मिक महिलायें है जिस प्रकार हम एक पौधें के सुरक्षित विकास के लिये प्रयत्न करते है उसी तरह हमें अपने बच्चों को नैतिक मूल्यों के साथ विकसित करना होगा।
WSSCC की उप कार्यकारी निदेशक सु कोट्स ने कहा कि बाल विवाह से छोटी लड़कियों के दिल पर बहुत आघात करने वाला प्रभाव पड़ता है। वे अपने जीवन की जिम्मेदारी नहीं ले सकती और उन पर पूरे परिवार का बोझ डाला जाता है तब वह किस दौर से गुजरती है इसे अनुभव नहीं किया जा सकता है।
बेस्रिया और हर्जिगोविना के पूर्व प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति की धर्मपत्नी सेल्मा जी ने महिला अधिकारों के बारे में बात करते हुये कहा कि बच्चों के श्रेष्ठ विकास के लिये माताओं और शिक्षकों की महत्वपूर्ण भूमिका हो सकती है।
दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान से साध्वी ओम प्रभा भारती जी ने कहा कि  हम पर्यावरण संरक्षण, गरीब बच्चों की शिक्षा और महिला सश्क्तिकरण के लिये कार्यकर रहे है हमने जाना कि विचार परिवर्तन से ही दुनिया में परिवर्तन आ सकता है।
साध्वी रूचिका भारती जी ने कहा कि हमें अपनी जड़ों से जुड़कर रहना चाहिये और हमें उन्हें स्वच्छ पोषण देना होगा अगर जड़े प्रदूषित होगी हो पत्तियां भी प्रदूषित ही निकलेगी।
मंहत दिव्या गिरि जी ने कहा कि शिक्षा के माध्यम से ही महिलायें सुखद भविष्य का निर्माण कर सकती है।
देवी मोहन जी, मोहन जी फाउण्डेशन, कहा कि शिव और शक्ति के बैंलेस की तरह ही हमेें बेटे और बेटियों के पोषण में बैंलेस रखना होगा।
मध्यप्रदेश से आयी साध्वी प्राची कल्पना जी ने कहा कि करूणा, त्याग और तप के साथ मातायंे अपने बच्चों को विकास करे।
ब्रह्मकुमारी सुदेश जी ने कहा कि हम सशक्त नींव प्रोजेक्ट के माध्यम से नुक्कड़ नाटक द्वारा महिला सश्क्तिकरण हेतु जागरूक करते है।
शिखर सम्मेलन का मुख्य आकर्षण शार्ट फिल्म, “मेरी जिन्दगी” सर्व-महिला राॅक बैंड ने सुन्दर प्रस्तुति दी। तत्पश्चात इंटरेक्टिव गेम्स हुये। प्रयागराज की 150 से अधिक स्वच्छता कर्मी बहनों को साड़ी भेंट कर सम्मानित किया। आज समिट के समापन अवसर पर स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने संकल्प कराया और भव्य शोभायात्रा निकाली। इस अवसर पर WSSCC विनोद मिश्रा, मेयर प्रयागराज श्रीमती अभिलाषा, सुश्री गंगा नन्दिनी, स्वामिनी आदित्यनन्दा सरस्वती, डाॅ रजना विमल और अन्य उपस्थित थे। सभी ने मिलकर वाटर ब्लेसिंग सेरेमनी सम्पन्न की।