जल संरक्षण के लिये हम जितना जल्दी जागेंगे उतना ही बेहतर होगा- स्वामी चिदानन्द सरस्वती

ऋषिकेश, हुसैन सदाकत। परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष एवं गंगा एक्शन परिवार के प्रणेता स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज और उत्तराखंड राज्य के शिक्षा मंत्री श्री अरविंद पांडे जी की भंेटवार्ता हुई।
श्री अरविंद पांडे जी की टीम के सदस्यों ने परमार्थ निकेतन, ऋषिकेश, गंगा एक्शन परिवार और ग्लोबल इंटरफेथ वाश एलायंस द्वारा आयोजित जल संरक्षण, स्वास्थ्य, स्वच्छता के विषयों पर आयोजित विशेष प्रशिक्षण लिया। इस प्रशिक्षण में पृथ्वी पर हो रही जल संकट की विकटता, जल संकट होने से मानव के साथ साथ समस्त जीव जंतु पर पड़ने वाला प्रभाव, भारत में जल को बचाने के लिये जल संरक्षण विद्यालय का बनाना, विद्यार्थियों को वैज्ञानिक तरीके से हाथ धोने का प्रशिक्षण देना, विद्यालयों के शौचालय को स्वच्छ रखना, जल संरक्षण, स्वच्छता, एवं प्रदूषण जनित बीमारियों से बचाव के तरीकों को जन सामान्य तक पहुंचाना जैसे अनेक विषयों पर चर्चा हुयी।
इससे पहले परमार्थ निकेतन, ऋषिकेश द्वारा बिहार सरकार के साथ मिलकर  शिक्षा के साथ स्वच्छ जल, स्वच्छता, और पर्यावरण के क्षेत्र में कार्य किया जा रहा है। स्वामी जी महाराज का विचार है कि पूरे भारत में इस तरह के प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया जाना चाहिये।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने जानकारी दी की जल संरक्षण एवं स्वच्छता के विषय में प्रशिक्षण कार्यक्रम उत्तरप्रदेश राज्य में भी शुरू करने की योजना है साथ ही देश के सभी स्कूलों में भी इसे लागू कराया जाना बेहतर होगा।
स्वामी जी महाराज ने कहा कि जिस प्रकार की स्थितियां है उसे देखते हुये आगे आने वाला समय जल संकट का समय हो सकता है इसलिये हम जितना जल्दी जागेेगे उतना ही बेहतर होगा तथा हम अपने जल स्रोतों एवं पृथ्वी को बचा सकते है। उत्तराखण्ड के भी गाद गदेरे सूखते जा रहे है, जल स्रोत प्रदूषित हो रहे है। इन समस्याओं से भागने से नहीं बल्कि इन्हें साधने से चलेगा काम इसलिये स्कूली बच्चों को प्रशिक्षित करने का कार्य लाभकारी सिद्ध होगा।
परमार्थ निकेतन और जीवा की टीम कुम्भ मेला में जाकर भी इस पर विशेष कार्य करेंगी। पिछले दो माह से प्रयागराज कुम्भ में इस पर अद्भुत और बहुत तेजी से कार्य किया जा रहा है। प्रतिदिन स्कूलों, अन्य संस्थाओं एवं कुम्भ मेला में स्वच्छता पर अनेक जागरण के कार्य किया जा रहे हैं।
स्वामी जी महाराज ने कहा कि जागरूकता ही है जल संरक्षण का सबसे बड़ा उपाय। जितनी शिक्षा बढ़ेगी उतनी ही जन जागरूकता बढ़ेगी। ऐसे कार्यक्रमों के माध्यम से लोग जागरूक होकर जल संवर्द्धन के कार्य मे आगे बढ़ेंगे।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने सभी स्कूलों का आह्वान किया कि जब बच्चे जागेगे तो परिवार जगेगा तथा परिवार से यह जल संरक्षण की मुहिम विश्व स्तर तक जायेगी। उत्तराखण्ड राज्य में जल संरक्षण की बहुत ज्यादा जरूरत है इस पर हम सभी को मिलकर कार्य करना होगा।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने श्री कुलदीप गैरोला संयुक्त निदेशक एस. सी.ई.आर.टी. उत्तराखण्ड, श्री मुकल सती जी, संयुक्त निदेशक विद्यालय शिक्षा उत्तराखण्ड, श्रीमती हेमलता भट्ट  जिला शिक्षा अधिकारी देहरादून, श्री बिजेन्दे्र सिंह नेगी और्र प्रधानचार्य राजकीय इण्टर कालेज बुल्लावाला आदि  सभी शिक्षा विभाग के अधिकारियों को जल संरक्षण का संकल्प कराया।