अपनी जड़ों एवं मातृभूमि से जुड़े- श्री वेंकैया नायडू

ऋषिकेश। परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष, स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय कला केन्द्र, नई दिल्ली में आयोजित विश्व वेद सम्मेलन में सहभाग किया। वेद सम्मेलन का उद्घाटन भारत के उपराष्ट्रपति श्री वेंकैया नायडू जी, स्वामी अग्निवेश और स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज एवं पंतजलि योगपीठ से आचार्य बालकृष्ण जी ने दीप प्रज्जवलित कर किया। इस अवसर पर अनेक गणमाण्य अतिथिगण उपस्थित थे।
मंगलाचरण एवं राष्ट्रगान के साथ आज के विश्व शान्ति यज्ञ का शुभारम्भ हुआ। डॉ आनन्द कुमार जी ने सभी विशिष्ट अतिथियों का अभिनन्दन किया तथा स्वामी अग्निवेश जी ने इस कार्यक्रम के उद्देश्य के विषय में जानकारी दी। उन्होने बताया कि इस तीन दिनों तक चलने वाले आयोजन में हिन्दू और मुस्लिम दोनों सम्प्रदायों की बालिकाओं ने दैनिक हवन, वैदिक मंत्रोपचार एवं भजनों में सहभाग किया।
इस कार्यक्रम में अग्रेंजी भाषा में चारों वेदों का भावार्थ ग्रंथ एवं मनुस्मृति का विमोचन किया गया। अंग्रेजी भाषा में रूपांतरित होने के पश्चात यह ग्रन्थ विश्व को वैदिक ज्ञान-विज्ञान एवं परम्परा से अवगत करायेगा। विशिष्ट अतिथियों ने मिलकर वेदों एवं मनुस्मृति पर गहराई से चर्चा कि गयी।
भारत के उपराष्ट्रपति श्री वेंकैया नायडू जी, ने कहा कि इस तरह के आयोजन आज के समय की जरूरत है इससे हमारी आने वाली पीढ़ी वेद और संस्कृति के पोषित होगी। उन्होने कहा कि आज के युवाओं को वैदिक संस्कृति, हमारी प्राचीनतम भाषा संस्कृत एवं मातृभाषा से जोड़ना नितांत आवश्यक है क्योंकि वेदों में पुरातण ज्ञान के साथ आधुनिक विज्ञान भी समाहित है। उन्होने अपनी जड़ों से जुड़़े रहने का संदेश दिया।
परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने कहा कि ’वेब से वेद’ की ओर लौटने का समय है। वेद मानव सभ्यता के विकास का आधार है; भारतीय संस्कृतिक धरोहर है। इस वेद रूपी धरोहर को ग्रन्थों तक सीमित न रखें इससे ज्ञानार्जन करें तभी हम मानव सभ्यता के प्राचीनतम ग्रण्थ में समाहित अपार ज्ञान के भण्डार तक पहुंच सकते हैं। उन्होने वेद अध्ययन केन्द्र खोलने की बात कही। स्वामी जी ने कहा कि वर्तमान समय में मानव ’वेब पेज’ पर आकर रूक गया है, दिन में सैकड़ो बार वेज पेज खोलते है और घन्टों व्यतित करते है परन्तु कम से कम दिन में एक बार ’वेद पेज’ खोलना आरम्भ करें तो आज का युवा वैदिक इतिहास एवं भारतीय संस्कृति का अग्रदूत होगा।’
स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने वेदों की चर्चा के साथ पर्यावरण एवं नदियों के संरक्षण के विषयों पर भी सभी का ध्यान आकर्षित करते हुये कहा कि हमारे धार्मिक एवं सामाजिक आयोजन की पूर्णाहुति हरियाली संवर्धन संदेश के साथ हो तो और भी बेहतर होगा।
शीतकालीन सत्र के प्रथम दिन आज प्रातःकाल श्री वेंकैया नायडू जी ने विश्व शान्ति यज्ञ में पूर्णाहुति करने के पश्चात शीतकालीन सत्र में सहभाग हेतु प्रस्थान किया। इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय कला केन्द्र, नई दिल्ली में आयोजित तीन दिवसीय विश्व वेद सम्मेलन का संयोजन डॉ आनन्द कुमार पूर्व आईपीएस द्वारा किया गया। इसमंेे आध्यात्म जगत के पूज्य संतों एवं राजनेताओं ने भाग लिया।