स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने आर्ट फेस्टिवल, कुम्भ प्रयागराज का किया उद्घाटन

ऋषिकेश। परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने प्रयागराज कुम्भ मेला में आर्ट फेस्टिवल का उद्घाटन किया इस अवसर पर अन्य विशिष्ट अतिथि उपस्थित थे। प्रशासन द्वारा अन्य संस्थाओं का सहयोग लेकर इन्दिरा भवन को इन्द्रधनुषीय रंगों से रंगकर आइकोनिक भवन बनाया जा रहा है जो अपनी संस्कृति के दिव्यतायुक्त रंगों से परिचय करायेगा। प्रयागराज कुम्भ के दौरान पहली बार अपनी संस्कृति का परिचय रंगों के माध्यम से भी कराया जायेगा। चित्रकार अपनी-अपनी कुची से रंग भरकर विश्व को संगम का संदेश देगे।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी एवं शहरी विकास मंत्री उत्तरप्रदेश सरकार श्री सुरेश खन्ना जी से भेंटवार्ता हुई। इस दौरान गंगा एक्शन परिवार, परमार्थ निकेतन, ग्लोबल इण्टरफेथ वाश एलायंस एवं अन्य संस्थाओं के सहयोग से प्रयागराज कुम्भ को यादगार, ऐतिहासिक बनाने के लिये तथा विश्वस्तरीय कार्यक्रमों के आयोजनों पर चर्चा हुई।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने बताया की प्रयागराज कुम्भ के दौरान योग, सांस्कृतिक, सामाजिक, पर्यावरण, युवाओं, दिव्यांगों, सैनिक, शहीद, जल, जंगल, जमीन, पेड़, पानी, पहाड़, महिलाओं, अपनी संस्कृति, अपना भारत, वसुधैव कुटुम्बकम् आदि अनेक विषयों पर विशद चर्चा और कार्यक्रमों का आयोजन किया जायेगा।
स्वामी जी महाराज ने कहा कि भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व एवं प्रेरणा एवं आदरणीय मुख्यमंत्री उत्तररप्रदेश सरकार श्री योगी आदित्यनाथ जी के नेतृत्व में होने वाला यह कुम्भ अद्भुत और अविस्मर्णीय होगा। यह कुम्भ सभी को भारतीय संस्कृति एवं अनेक आश्चर्यों से अवगत करायेगा। स्वामी जी महाराज ने पूरे विश्व के लोगों से आह्वान किया कि वे इस पावन अवसर को न गवायें सभी प्रयागराज कुम्भ में सहभाग करे, इसका लाभ उठायें तथा अपने जीवन की महत्ता को समझे और जीवन को महोत्सव बनाये। स्वामी जी ने कहा कि कुम्भ एक अवसर है भारतीय संस्कृति से दुनिया को अवगत कराने का और विश्व से जुड़ने और जोड़ने का।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने कहा कि प्रयागराज कुम्भ में योग कुम्भ तो मनाया जायेगा साथ ही पर्यावरण कुम्भ मनाये जाने पर भी पूरा-पूरा जोर दिया जा रहा है।