दिल्ली: स्वच्छता के सजग प्रहरी बने सीलमपुर के स्थानीय

नई दिल्ली/ देवेश दुबे। लाल किले के प्राचीर से पीएम नरेंद्र मोदी ने देश की 125 करोड़ जनता से अपील किया था कि ‘न गंदगी करूंगा न करने दूंगा’। पीएम मोदी के इस अपील का असर पूरे देश में दिखने लगा है। प्रधानमंत्री के स्वच्छ भारत के सपने को साकार करने के लिए राजधानी दिल्ली में एक अच्छी पहल हुई है। दिल्ली के सीलमपुर इलाके के लोग भंयकर गर्मी में टेंट लगाकर पहरेदारी कर रहे हैं। गलियों में मुस्तैद इन लोगों की हर घर पर पैनी नजर हैं। आखिर ये नौबत आई क्यों? क्यों लोगों को दिनरात जागकर पहरेदारी करनी पड़ रही है? इनको किस चीज से ख़तरा है?
कुछ दिन पहले इस इलाके में गंदगी की भरमार थी। नालियों में पानी ओवरफ्लो होता था। इस इलाके का हाल इस कदर खराब था लोग यहां की गलियों से निकलने से बचते थे। और किसी को यहां से निकलना पड़ता था तो मुंह पर कपड़ा बांध कर निकलता था। गंदगी की वजह से हर वक्त बीमारियों का खतरा बना रहता था। इसके बाद स्थानीय लोगों ने अपने मुहल्ले को साफ की ठानी। सभी लोगों ने मिलकर पूरे इलाके को साफ किया लेकिन इसके बाद भी डर ये था कि कही ये इलाका फिर न गंदा हो जाए इसके लिए लोगों ने पहरेदारी की तरकीब निकाली और एक कमेटी बनाई। कमेटी के हर सदस्य की बारी बारी से मोहल्ले की पहरदेरी की जिम्मेदारी सौंपी गई। पहरेदारी का ये सिलसिला 24 घंटे चलता है।

मोहम्मद कासिब बताते हैं कि एक अरसे से यहां गंदगी का अंबार लगा रहता था। बदबू की वजह से इस रास्ते से गुजरना मुश्किल होता था। हम लोग आपसी सहमति से एक कमेटी बनाए और अब इस कमेटी के नेतृत्व में पहरेदारी की जाती है।

लोगों की इस मुहिम का असर भी साफ दिख रहा है। जहां इस इलाके में गंदगी भरमार रहती थी। वहां सड़के साफ रहती है नालियों की सफाई हो चुकी है। वहीं अगर किसी को इस इलाके में गंदगी करते हुए पकड़ा जाता है तो उसे समझया जाता है कि वो आगे से ऐसा न करे।
कमेटी के साथ जुड़कर पहरेदारी करने वाले एक स्थानीय ने बताया कि यहां इस बात का खयाल भी रखा जाता है कि अगर कोई गलती से भी गंदगी फैलाता है तो उसे समझाया जाता है। पूरी कोशिश होती है कि इस इलाके को साफ सुथरा रखा जाए।  जो कमेटी इस इलाके में सफाई की मुहिम चला रही है। उसकी हर कोई तारीफ कर रहा है साथ ही स्थानीय लोग कमेटी के लोगों की हर संभव मदद का दावा भी कर रहे हैं।
स्थानीय निवासी के मुताबिक इस मुहिम की हर जगह तारीफ हो रही है ये एक अच्छी पहल है इससे देश को सीखना चाहिए साथ ही बताया कि इस मुहिम के लिए स्थानीय लोगों की हर संभव मदद भी मिल रही है।
राजधानी में गंदगी के खिलाफ शुरू हुई इस जंग ने ये साबित कर दिया है कि अगर हर इंसान गंदगी के खिलाफ ऐसी जागरूक हो जाए तो वो दिन दूर नहीं जब देश की हर गली साफ सुथरी नजर आएगी।