श्रीराम के नाम पर महाराष्ट्र में शिवसेना का ‘विजय प्लान’

मुंबई। नवंबर 2018 में शिवसेन प्रमुख उद्धव ठाकरे अयोध्या आए थे। उसके कुछ महीने बाद लोकसभा का चुनाव होना था। अब उद्धव फिर से अयोध्या आ रहे हैं वहीं कुछ महीनों बाद महाराष्ट्र में चुनाव होना है। उद्धव ठाकरे अपने 18 सांसदों के साथ 16 जून को रामलला के दर्शन के लिए आ रहे हैं।
उद्धव ठाकरे ने कहा कि संसद का सत्र शुरू होने के पहले मैं अपने सांसदों के साथ एक बार राम मंदिर में दर्शन के लिए जाऊंगा।
उद्धव जब पिछली बार अयोध्या आए थे, तो उनकी भाषा मोदी सरकार के ख़िलाफ़ काफी तल्ख थी। मोदी सरकार को निशाना बनाकर उद्धव ने यहां तक कह डाला था कि वो अयोध्या सोए हुए कुंभकर्ण को जगाने आए हैं। पहले मंदिर फिर सरकार का नारा भी दिया, लेकिन इस बार उद्धव की ज़रूरत राम मंदिर के लिए दबाव से ज्यादा हिंदुत्व के एजेंडे पर मजबूत दिखाई देने की है। 
शिवसेना सांसद संजय राउत ने बताया कि अब तो बीजेपी के पास 303 सांसद हैं शिवसेना के पास 18 सांसद हैं और पार्टी मिलकर हम 350 के ऊपर हैं और क्या चाहिए मंदिर बनाने के लिए। आपको बहुमत चाहिए था बहुमत मिल गया है मंदिर का मुद्दा अब नहीं चलेगा अब चलाया तो लोग जूते मारेंगे। 
नवंबर में लोकसभा चुनाव से पहले उद्धव अयोध्या गए, तो शिवसेना को महाराष्ट्र में विजयी भव: का आशीर्वाद मिला था और अब वो एक बार फिर अयोध्या आने वाले हैं इस उम्मीद के साथ कि महाराष्ट्र चुनाव में भी शिवसेना का रामजी बेड़ा पार लगाएंगे।