पत्रकार हत्याकांड मामले में डेरा प्रमुख दोषी करार, 17 जनवरी को होगा सजा का ऐलान

पंचकुला। विशेष सीबीआई कोर्ट के जज जगदीप सिंह ने राम रहीम समेत चार आरोपियों को दोषी ठहराया। कोर्ट द्वारा दोषी करार दिए जाने के बाद अब राम रहीम और बाकी दोषियों को 17 जनवरी को सजा का ऐलान किया जाएगा। सुनवाई से पहले पंचकूला में सीबीआई की स्पेशल कोर्ट का सुरक्षा बढ़ा दिया गया। यौन शोषण केस में राम रहीम को सजा के बाद पिछली बार हुई हिंसा को देखते हुए प्रशासन की ओर से सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद की गई थी। राम रहीम को विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कोर्ट में पेश किया गया है।

सुनवाई के दौरान तैनात पुलिसकर्मी

सुनवाई के दौरान मीडिया को अदालत से बाहर रखा गया। विशेष कोर्ट ने राम रहीम के अलावा इस मामले में तीन अन्य आरोपियों को मुजरिम करार दिया। सीबीआई स्पेशल कोर्ट की सुरक्षा व्यवस्था के बारे में जानकारी देते हुए डीसीपी कमलदीप गोयल ने बताया कि ‘बड़ी तादाद में पुलिसबल तैनात किया गया है। वहीं कोर्ट परिसर में 500 की तादाद में पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है। सुरक्षा के लिहाज से बैरिकेडिंग भी की गई।’ 

क्या है पत्रकार छत्रपति हत्याकांड? 

पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड करीब 16 साल पुराना है और डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम इसमें आरोपी है। साल 2002 में पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। छत्रपति अपने समाचार पत्र में डेरा से जुड़ी खबरों को प्रकाशित करते थे। पत्रकार छत्रपति के परिजनों ने मामला दर्ज करवाया था और बाद में इसे सीबीआई के सुपुर्द कर दिया गया था। सीबीआई ने 2007 में चार्जशीट दाखिल कर दी थी और इसमें डेरा प्रमुख गुरमीत सिंह राम रहीम को हत्या की साजिश रचने का आरोपी माना था।