प्रयागराज कुम्भ: झारखण्ड पर्यटन मंडप में सांस्कृतिक कार्यक्रम ने लोगो का मोहा मन

प्रयागराज/ देवेश दुबे। कुम्भ अपना एक और शाही स्नान पार कर चुका है। करोड़ों की तादाद में आने वाले श्रद्धालु पवित्र संगम में स्नान के बाद मेले का आनंद ले रहे हैं। झारखण्ड पर्यटन विभाग ने श्रद्धालुओं को झारखण्ड की विशिष्टिता प्रदर्शित करने के लिए मंडप में झारखण्ड से जुडी तमाम चीजों को प्रदर्शित किया है। श्रद्धालुओं को झारखण्ड के पारम्परिक नृत्य शैली दिखाने के लिए भी व्यवस्था की गई है। जिसमें झारखण्ड के नागपुरी नृत्य, छऊ, कडसा नृत्य, संथाली नृत्य, पाता झुमर नृत्य प्रस्तुत किये जायेंगे। मंडप में हो रहे नागपुरी नृत्य लोगों को मंत्र मुग्ध कर रहे हैं। भारतीय लोक कल्याण संस्थान रांची द्वारा प्रस्तुत किये जा रहे नृत्य में जब पारंपरिक वेष में कलाकार स्टेज पर आ रहें है तो राज्य की लोक संस्कृति देखते ही बन रही है। नृत्य शुरू होते ही लोककला दर्शकों के दिलों पर राज करना शुरू कर देती है। दर्शकों की तालियां कलाकारों की हैसला अफजाई के साथ साथ उनकी रूचि भी प्रदर्शित कर रहा है। लोकनृत्य के माहिर कलाकार हर एक स्टेप को जीवंत कर दे रहे हैं। झारखण्ड पर्यटन ने प्रदेश की संस्कृति को प्रयागराज में आने वाले श्रद्धालुओं तक पहुंचाने के लिए यह विशिष्ठ आयोजन किया है। मंडप कई अवयव जैसे तीर्थ स्थल, हस्तशिल्प, व्यंजन, सूचना और पारम्परिक नृत्य शैलिओं का केंद्र बना हुआ है।