मुख्यमंत्री ने पिपराइच चीनी मिल के भूमि पूजन एवं शिलान्यास कार्यक्रम को किया सम्बोधित

गोरखपुरl उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज जनपद गोरखपुर में लगभग 365 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाली पिपराइच चीनी मिल का भूमि पूजन एवं शिलान्यास किया। इस अवसर पर आयोजित एक जनसभा को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों ने केवल चीनी मिल बेचने का काम किया था, जिससे कर्मचारी बेरोजगार हो गए, किसान बेहाल हो गए और रोजगार सृजन बन्द हो गया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में अब कोई चीनी मिल बन्द नहीं होगी, बल्कि नई चीनी मिलें खुलेंगी और पुरानी चीनी मिलों का विस्तारीकरण किया जाएगा। 
योगी जी ने लोगों को दीपावली की बधाई देते हुए कहा कि यह पिपराइच मिल तोहफा है। उन्होंने कहा कि चीनी मिल के साथ 15 मेगावाॅट की क्षमता का पावर प्लाण्ट भी लगेगा, जिससे कि इस क्षेत्र को 24 घण्टे बिजली मिलेगी। इसके साथ ही डिस्टलरी भी लगेगी। उन्होंने कहा कि पिपराइच चीनी मिल आगामी वर्ष 2018-19 पेराई सत्र से चालू हो जाएगी। इस चीनी मिल की स्थापना से हजारों नौजवानों को रोजगार मिलेगा तथा पिपराइच, हाटा, भटहट एवं आस-पास के हजारों गन्ना किसानों को गन्ने का उचित मूल्य मिलेगा, जिससे क्षेत्र में खुशहाली आएगी।
मुख्यमंत्री जी ने पिपराइच में नए आधुनिक तकनीक वाले गन्ना शोध संस्थान की स्थापना की भी घोषणा की। इससे क्षेत्र के लोगों को नयी प्रजाति का गन्ना उपलब्ध होगा तथा वे नई तकनीक का प्रयोग कर सकेंगे।
योगी जी कहा कि प्रदेश सरकार के 06 माह के कार्यकाल में पिछले सत्र के बकाया गन्ना मूल्य का 98 प्रतिशत भुगतान किसानों को चीनी मिलों द्वारा किया गया है। पेराई सत्र शुरू होने के पूर्व अवशेष धनराशि का भुगतान कराया जायेगा। इससे उत्साहित होकर प्रदेश में किसानों ने 2.50 लाख एकड़ अधिक रकबा गन्ना का बढ़ा दिया है।
मुख्यमंत्री जी ने किसानों का आह्वान किया कि वे वैज्ञानिक तकनीक से गन्ना की बुआई करके एक एकड़ में 400 से 500 कुन्तल उपज प्राप्त करने का प्रयास करें। उन्होंने कहा कि पिछली पिपराइच चीनी मिल 800 कुन्तल प्रतिदिन पेराई क्षमता की थी। नई चीनी मिल 35 हजार कुन्तल गन्ना प्रतिदिन पेराई क्षमता की है। इसलिए इस मिल को अधिक गन्ना की आवश्यकता होगी।
योगी जी ने कहा कि यह सरकार किसानों के हित की सरकार है। इस वर्ष अधिकाधिक धान क्रय केन्द्र खोलकर किसानों को उनके उत्पाद का उचित मूल्य दिलाया जाएगा। उन्होंने बताया कि किसानों को 1550 रुपए एवं 1590 रुपए के साथ ही, 15 रुपए प्रति कुन्तल अधिक भुगतान दिया जाएगा। पूर्वांचल में धान खरीद आगामी एक नवम्बर से चालू होगी। उन्होंने कहा कि फसल ऋण मोचन योजना में प्रदेश में अब तक 20 हजार करोड़ रुपए का किसानों का ऋण माफ किया जा चुका है। शीघ्र ही इस योजना के तीसरे चरण की शुरुआत की जाएगी।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि सरकार के 7 माह हो रहे हैं और प्रदेश में कोई दंगा नहीं हुआ है। प्रदेश में अब निवेश का वातावरण बन रहा है। कानून का राज स्थापित हो रहा है। उन्होंने कहा कि 27 वर्ष पूर्व बन्द हुए खाद कारखाने का शिलान्यास पिछले वर्ष आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने किया था। आज उसका भी भूमि पूजन किया है। यहां गैस से बनने वाली खाद का कारखाना लगेगा और वाराणसी से पाइप लाइन द्वारा गैस पहुंचाई जाएगी। निकट भविष्य में गोरखपुर नगर में घर-घर पाइप लाइन से गैस पहुंचाई जाएगी।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के 1328 लाभार्थियों को स्वीकृति पत्र प्रदान किए। उन्होंने स्वयं बांसगांव नगर पंचायत के विद्यावती देवी, कुसुमलता, बैजन सिंह, महेश पाण्डेय, गुलइचा देवी तथा पिपराइच के रामदास, निर्मला देवी, वीरेन्द्र प्रजापति, लाल जी, स्वीधर, हसीना आदि को स्वीकृति पत्र दिया।
समारोह में चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास मंत्री श्री सुरेश राणा ने बताया कि पूर्वांचल का पुनः चीनी मिलों का क्षेत्र बनाया जाएगा। सांसद डाॅ0 महेन्द्रनाथ पाण्डेय ने कहा कि सरकार गरीबों के उत्थान के लिए कार्य करती रहेगी। इस अवसर पर विधायक श्री महेन्द्रपाल सिंह ने सभी का स्वागत किया। उ0प्र0 राज्य चीनी एंव गन्ना विकास निगम के प्रबन्ध निदेशक श्री सुरेश सिंह ने सभी के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया। पण्डित दीन दयाल उपाध्याय इण्टर काॅलेज पिपराइच की छात्राओं ने सरस्वती वन्दना प्रस्तुत की।
समारोह में जनप्रतिनिधिगण, शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी एवं अन्य गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।