एकात्म मानववाद के प्रणेता थे पं0 दीनदयाल उपाध्याय-योगी आदित्यनाथ

मथुरा/ बुशरा असलम। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को वृंदावन में ठाकुर बांकेबिहारी के दर्शन करने के बाद अपनी सरकार के छह माह के कार्यकाल पर जनता के सामने रिपोर्ट पेश की। आगामी छह महीनों में सरकार और क्या बेहतर करने जा रही है इसकी भी जानकारी दी। किसानों के लिए कई नई योजनाओं को शुरू करने का भी दावा किया गया। प्रदेश सरकार के छह माह पूरे होने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंगलवार सुबह वृंदावन पहुंचे और ठाकुर बांकेबिहारी के दर्शन किए। यहां से पंडित दीनदयाल उपाध्याय के गांव नगला चंद्रभान (फरह) गए और पंडित जी की उस झोपड़ी को चित्रों में देखा जिसमें वह रहते थे

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पं0 दीनदयाल उपाध्याय एकात्म मानववाद के प्रणेता थे। अन्त्योदय के रूप में उन्होंने समाज के अन्तिम पायदान पर खड़े व्यक्ति के अधिकारों को आवाज दी। 50 वर्ष पहले पं0 दीनदयाल उपाध्याय ने जिस अन्त्योदय की बात की थी आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में संचालित विभिन्न योजनाओं के माध्यम से केन्द्र एवं राज्य सरकार उन्हें साकार कर रही है। केन्द्र सरकार ने जनधन, उज्ज्वला जैसी योजनाएं संचालित की हैं। राज्य सरकार ने लघु एवं सीमान्त किसानों के फसली ऋण मोचन की योजना अन्त्योदय की प्रेरणा से ही लागू की है।
उन्होंने कहा कि ब्रज क्षेत्र देश दुनिया के सनातन हिन्दू धर्मावलम्बियों के लिए बड़ी पवित्र धरती है। यहां की मान्यता रही है कि जिन पशु-पक्षियों को विचरने का अवसर प्राप्त होता है तो वह धन्य हो जाते हैं। मनुष्य का जन्म मिलने के साथ ही ब्रज क्षेत्र में इसकी पावन दिव्यता का नित्य सेवन करने से उसके आध्यात्मिक प्रभाव में रहने का जिन्हें मौका मिलता है वे सौभाग्यशाली हैं। इस क्षेत्र में जिस किसी को भी किसी न किसी रूप में कार्य करने का अवसर मिला है वह पूर्वजन्मों का प्रारब्ध ही है, जो पुण्य के भागीदार बन रहे हैं।
योगी ने कहा कि इस क्षेत्र ने देश की राजनीति को भी नई दिशा दी है। 50 वर्ष पहले नगला चन्द्रभान के एक गरीब परिवार में जन्मे पं0 दीनदयाल उपाध्याय जी ने जिस राजनीतिक विचारधारा को धार दी थी, वह आज देश की दिशा निर्धारित करते हुए प्रगति का मार्ग प्रशस्त कर रही है। पं0 दीनदयाल उपाध्याय जी की जन्मस्थली का अवलोकन करने से पता चलता है कि प्रतिभा किसी की मोहताज नहीं होती है।
इस अवसर पर योगी ने एकात्म मानववाद के प्रणेता पं0 दीनदयाल उपाध्याय जी द्वारा शुरू किये गये हिन्दी दैनिक ‘स्वदेश‘ समाचार पत्र के विशेषांक का विमोचन भी किया। उन्होंने हरदपुर मांट के शहीद श्री विनोद कुमार, झण्डीपुर निवासी शहीद श्री बबलू सिंह, धाना रूमा के शहीद श्री लक्ष्मण सिंह, बेगमपुर के शहीद श्री सतेन्द्र सिंह के परिजनों को शाॅल ओढ़ाकर सम्मानित किया।
मुख्यमंत्री द्वारा पं0 दीनदयाल धाम पर्यटन विकास योजना का शिलान्यास किया गया। इस मौके पर पं0 दीनदयाल उपाध्याय के नाम पर बालिकाओं के लिए डिग्री काॅलेज की स्थापना की घोषणा करते हुए उन्होंने कहा कि इससे आसपास के कई गांवों की बालिकाओं को पं0 दीनदयाल उपाध्याय की जन्मभूमि पर अध्ययन का अवसर प्राप्त होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि देश के अन्दर हर गरीब व्यक्ति का वर्ष 2022 तक अपना आवास होगा। प्रधानमंत्री आवास योजना के अन्तर्गत वर्तमान सरकार ने अभी तक 09 लाख 70 हजार गरीब व्यक्तियों को आवास देने के लिए पंजीकरण किया है। इसमें से 08 लाख लोगों को अब तक आवास दिये जा चुके हैं। प्रदेश के 04 जिले हापुड, गाजियाबाद, बिजनौर तथा शामली जनपदों को खुले में शौच में मुक्त किया जा चुका है। वर्तमान सरकार ने 16 लाख गरीबों को निःशुल्क विद्युत कनेक्शन उपलब्ध कराने का काम किया है।

योगी ने कहा कि हमारी सरकार द्वारा उत्तर प्रदेश की 22 करोड़ जनता की सेवा करते हुए 06 माह का कार्यकाल पूर्ण हो रहा है। श्री बांके बिहारी जी के दर्शन करने का सौभाग्य मिला और अन्त्योदय के प्रणेता पं0 दीनदयाल उपाध्याय जी की जन्मस्थली पर दर्शन करने का मौका मिला। प्रदेश सरकार बिना किसी भेदभाव के विकास योजनाओं का लाभ सभी को उपलब्ध करा रही है। प्रदेश में पूर्ण बहुमत की सरकार ऐसे समय में आई है जब पं0 दीनदयाल उपाध्याय जी की जन्मशती वर्ष के कार्यक्रम का आयोजन हो रहा है। सरकार ने तय किया कि आदरणीय उपाध्याय जी के व्यक्तित्व, कृतित्व, उनके दर्शन तथा एकात्म मानववाद को आमजन तक पहुॅचाने की आवश्यकता है, जिसे पूर्ण किया जा रहा है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पं0 दीनदयाल उपाध्याय जी ने मुगलसराय में अन्तिम सांस ली थी उस रेलवे स्टेशन का नाम तथा उस नगर पंचायत का नाम पं0 दीनदयाल उपाध्याय जी के नाम पर कर दिया गया है। पण्डित जी की स्मृति में पं0 दीनदयाल उपाध्याय शोधपीठ की स्थापना तथा वांग्मय का प्रकाशन कराया गया है। उनके इस वांग्मय को पढ़कर कोई भी उनकी जीवन यात्रा को विस्तार से जान सकता है। नगला चन्द्रभान हम सबके लिए राजनैतिक तीर्थ से कम नहीं है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों को बेहतर सिंचाई व्यवस्था उपलब्ध कराने के उद्देश्य से नहरों में टेल तक पानी पहुॅचाने के लिए सिंचाई विभाग को निर्देशित किया गया है। सरकार किसानों की आय दो-गुना करने के लिए कृतसंकल्पित है। आलू किसानों के लिए योजना बनाई जा रही है, जिसके तहत फूड प्रोसेसिंग के लिए आधुनिक केन्द्र स्थापित करने होंगे। आगरा, मथुरा, अलीगढ़ क्षेत्र में खारे पानी की समस्या के निदान के लिए अधिक से अधिक चैकडेम बनाने होंगे, खेत तालाब योजना को जनआन्दोलन का रूप देना होगा। रेन वाॅटर हार्वेस्टिंग के माध्यम से हमें ऐसी व्यवस्था बनानी होगी, जिससे वर्षा का पानी बेकार न हो। वर्षा जल को संरक्षित करके ही वाॅटर लेवल को बढ़ाया जा सकता है। प्रधानमंत्री जी ने ‘नमामि गंगे’ परियोजना का शुभारम्भ किया है। इसी प्रकार, यमुना जी की स्वच्छता व निर्मलता के लिए भी हम सबको प्रयास करने चाहिए।
योगी ने कहा कि इस क्षेत्र का विकास होने के साथ ही जन्मभावनाओं का सम्मान होना चाहिए। ब्रजवासियों की भावनाओं का सम्मान करते हुए यहां पर विकास कराने के लिए ब्रजतीर्थ विकास परिषद का गठन किया गया है, जिसे अमलीजामा पहनाते हुए एक-एक करके आगे बढ़ रहे हैं। मथुरा, वृन्दावन, गोवर्धन, बरसाना, नन्दगांव, गोकुल, बलदेव सहित महावन क्षेत्रों को विकसित करेंगे। उन्होंने कहा कि हमें सम्पूर्ण ब्रज क्षेत्र के विकास के बारे में सोचना होगा, ब्रजतीर्थ विकास परिषद के लिए भारत सरकार पर्याप्त मात्रा में धनराशि देने जा रही है। प्रदेश सरकार भी इसे पर्यटन के दृष्टिगत विकसित करने के लिए प्रतिबद्ध है। इससे इस क्षेत्र में रोजगार की अपार संभावनाएं सृजित होंगी, जिससे नौजावानों के पलायन को भी रोका जा सकेगा। उन्होंने अन्त्योदय के प्रणेता पं0 दीनदयाल उपाध्याय की स्मृतियों को नमन करते हुए ब्रजक्षेत्र में विकास के लिए सरकार की प्रतिबद्धता दोहराई।
मुख्यमंत्री जी ने आज प्रातः वृन्दावन स्थित श्री बांके बिहारी जी मन्दिर में विधिवत् पूजा अर्चना एवं दर्शन करने के पश्चात नगला चन्द्रभान स्थित पं0 दीनदयाल स्मृतिधाम में पण्डित जी की मूर्ति पर दीप प्रज्ज्वलित कर माल्यार्पण किया। इसके पश्चात उन्होंने उद्योग केन्द्र स्थित विभिन्न औषधियों तथा अन्य उत्पादों के निर्माण कार्यों का अवलोकन किया।
इस अवसर पर प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्री श्रीकान्त शर्मा, दुग्ध विकास मंत्री श्री लक्ष्मीनारायण चौधरी, पर्यटन मंत्री प्रो0 रीता बहुगुणा जोशी, पंचायती राज राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री भूपेन्द्र सिंह चैधरी सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण, शासन-प्रशासन के अधिकारी एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।