स्वामी चिदानन्द सरस्वती और नीतीश कुमार के बीच गंगा को लेकर हुई बैठक 

पटना/ रवि शर्मा। परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने बिहार के मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार से मुलाकात की। मुलाकात के दौरान स्वामी जी ने गंगा नदी की वर्तमान स्थिति के विषय में चर्चा करते हुये कहा कि गंगा के तटों पर स्वच्छता के साथ हरित गलियारा एवं जैविक खेती करने पर के विषय में बात की। उन्होने ’गंगा एक्ट’ की प्रति भी मुख्यमंत्री जी को भेंट की।
स्वामी जी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को शराब एवं नशा मुक्त बिहार बनाने के लिये किये जा रहे प्रयासों की सराहना की तथा पर्यावरण एवं जल संरक्षण, वृक्षारोपण, शौचालय के निर्माण का प्रशिक्षण एवं स्वच्छ बिहार, स्वस्थ बिहार का निर्माण पर विस्तृत चर्चा की। स्वामी जी ने बताया की जीवा, गंगा एक्शन परिवार एवं अन्य संस्थायें मिलकर दो लाख पौधों का रोपण करने जा रही है। उन्होने कहा कि जीव एवं गंगा एक्शन परिवार वृक्षारोपण एवं पर्यावरण संरक्षण के लिये सरकार के साथ है इस ओर मिलकर कार्य करे तो और भी बेहतर परिणाम प्राप्त होंगे।
स्वामी जी ने  गंगा के दोनों तटों पर हरित गलियारा, हरित शवदाह गृह, जैविक खेती, वृक्षारोपण के माध्यम से प्रदूषण को कम करने की बात कही उन्होंने कहा कि गंगा के किनारे वाले गावों एवं शहरों को खुले में शौच से मुक्त करना नितांत आवश्यक है। स्वामी जी ने गंगा एक्शन परिवार एवं ग्लोबल इण्टरफेथ वाश एलायंस द्वारा चलाये जा रहे जागरूकता अभियान एवं संरचनात्मक कार्यशालाओं की भी जानकारी दी। उन्होने कहा कि वृक्ष की शीतल छाया मां के आंचल के समान है। पेड़ों को सुरक्षित कर हम मानव सभ्यता को सुरक्षित कर सकते हैं। वर्तमान ओर भावी पीढ़ी को सुरक्षित एवं स्वस्थ्य रखने के लिये प्रत्येक मनुष्य को वृक्षारोपण की संस्कृति को जीवन में धारण करना ही पडे़गा क्योंकि कुछ क्षण के लिये कम होती ऑक्सीजन इतने भयावह परिणाम ला सकती है तो सम्पूर्ण वातावरण में उपस्थित ऑक्सीजन अगर इसी वेग से प्रदूषित होती रही तो इसके विकराल परिणाम सामने आ सकते है। इस  ओर समाज, सरकार, संत एवं संस्थायें मिलकर कार्य करे तो विलक्षण परिणाम प्राप्त होगे।