बनारस: मुंशी प्रेमचंद के गांव लमही के लोगों की प्यास बुझाएगा राष्ट्रीय मुस्लिम मंच

वाराणसी/ आनंद के. पांडेय। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारार संचालित संगठन राष्ट्रीय मुस्लिम मंच मशहूर सहित्यकार मुंशी प्रेमचंद के गांव वाराणसी स्थित लहमी के लोगों की प्यास बुझाने की रणनीति तैयार कर रहा है। इस कार्य को विशाल भारत संस्थान के बैनर तले संचालित किया जाना है। ये दोनों संस्थाएं पहले वाराणसी में राम बैंक, अनाज बैंक, रोटी बैंक के बाद अब वाटर बैंक भी संचालित कर रहे हैं।

भारत संस्थान के अध्यक्ष डॉ. राजीव श्रीवास्तव के मुताबिक “पीएम नरेंद्र मोदी के जल संचयन के आह्वान से प्रेरित होकर और पानी की समस्या को देखते हुए हमने यह निर्णय लिया है कि मुंशी प्रेमचंद के जन्मस्थली लमही में पानी की समस्या दूर की जाए। उन्होंने बताया कि एक वाटर बैंक खोलने जा रहे हैं, जिससे आमजन को  मुफ्त में पानी मिल सके। साथ ही डॉ राजीव ने बताया कि पायलट प्रोजेक्ट के तहत वाराणसी के शक्कर तालाब में पहला वाटर बैंक खोला गया है।”

डॉ श्रीवास्तव के मुताबिक “जिन क्षेत्रों में स्वच्छ पानी उपलब्ध नहीं हो पा रहा है, वहां मुहैया करा रहे हैं। मुंशी प्रेमचंद्र के जन्मस्थान लमही में पानी की समस्या को देखते हुए पहला पानी बैंक खोला जाएगा। वहां का कुंआ सूख गया है, जिससे पानी की समस्या बढ़ रही है। ऐसे में वहां पर वाटर बैंक खोलकर लोगों की प्यास बुझाई जाएगी। इसके लिए स्थान का भी चयन हो चुका है।” उन्होंने कहा, “जल्द ही बोरिंग कराकर लोगों को स्वच्छ पानी मुहैया कराया जाना है। इससे हजारों लोगों की पानी की समस्या दूर हो जाएगी। इसके बाद अगला पड़ाव बुंदेलखंड के उरई में है। जहां पानी की समस्या को दूर करने का प्रयास किया जाएगा जिससे लोगों को प्रेरित भी किया जाएगा। इस बोरिंग का खर्च करीब 90 हजार रुपये आता है।” उन्होंने बताया, “इस अनोखे पानी बैंक की कोशिश है की सभी लोगों को शुद्ध पेयजल मिले और कोई प्यासा न रहे। यह गैर सरकारी पैसे से चलाया जा रहा है। आगे चलकर हम इसका प्रोजेक्ट बनाकर सरकार को देंगे, ताकि प्रदेश में जहां भी पानी की समस्या है, उसे सलीके से निपटाया जा सके।”