मन, वाणी, कर्म, दृष्टि व व्यवहार से श्रेष्ठ बनें- आचार्य सुधांशु जी महाराज

नागपुर। विश्व जागृति मिशन के नागपुर मण्डल द्वारा आयोजित पाँच दिवसीय विराट भक्ति सत्संग महोत्सव आज सायंकाल रेशमबाग़ ग्राउण्ड में शुरू हो गया। महोत्सव का उदघाटन मिशन के संस्थापक-अध्यक्ष आचार्य सुधांशु जी महाराज ने दीप प्रज्ज्वलित करके किया। इस मौक़े पर विशालकाय पंडाल में कई हज़ार स्त्री-पुरुष उपस्थित थे।

सन्त श्री सुधांशु जी महाराज ने अपने उद्घाटन उदबोधन में कहा कि आज ज़रूरत है कि मन, वाणी, कर्म, दृष्टि एवं व्यवहार से उत्कृष्ट नागरिक भारी संख्या में भारतवर्ष में विकसित हों। उन्होंने उपस्थित जनसमुदाय के माध्यम से महाराष्ट्रवासियों का आहवान किया कि वे निज जीवन को श्रेष्ठ बनाते हुये परिवार, समाज एवं राष्ट्र को अच्छा बनाएँ। उन्होंने गीता संदेश की आवश्यकता राष्ट्र के हरजन के लिए आवश्यक बताई और कहा कि विश्व जागृति मिशन ने देशवासियों को विविध माध्यमों से गीता के ‘कर्म सिद्धान्त’ एवं अन्य जीवन सिद्धान्तों का सन्देश पहुँचाने का बीड़ा उठाया है। इसकी विस्तृत योजना मिशन द्वारा बनायी जा रही है।

प्रधानमन्त्री श्री नरेन्द्र मोदी को अदभुत गीताप्रेमी बताते हुये महाराजश्री ने कहा कि श्रीमदभगवदगीता मुर्दा-मन को विजयी बनाने की शिक्षा देने वाला अनूठा प्राचीन भारतीय ग्रन्थ है। उन्होंने कहा कि गीता विपरीत से विपरीत परिस्थितियों में जीतने और जिताने के गूढ़ व गम्भीर मन्त्र साधक को देती है। श्री सुधांशु जी महाराज के आग्रह पर सत्संग में उपस्थित नागपुर के हज़ारों व्यक्तियों ने प्रतिदिन गीता के कम से कम पाँच मन्त्रों का भावार्थ सहित गम्भीरता से स्वाध्याय करने का वचन तालियों की गड़गड़ाहट के साथ दिया। उन्होंने कहा कि गीता विषाद को प्रसाद अर्थात प्रसन्नता में परिवर्तित कर देती है।

विजामि प्रमुख सुधांशु जी महाराज ने २१वीं सदी के इस विशेष काल में अध्यात्म, विज्ञान एवं प्रबन्धन को एक साथ जीवन में अंगीकार करने की अपील महाराष्ट्रवासियों से की। उन्होंने त्यागभरा यज्ञीय जीवन जीते हुये मर्यादित, अनुशासित एवं व्यवस्थित जीवन जीने के सूत्र उपस्थित जन समुदाय को समझाए।

इसके पूर्व सत्संग महोत्सव के मुख्य यजमान श्री खेमचन्द एस. मेहरकुरे एवं श्री विट्ठल मेहर ने सपरिवार व्यास पूजन किया। अकोला के विधायक श्री गोवर्धन लाल शर्मा, मिशन के नागपुर मण्डल के प्रधान श्री द्वारिका प्रसाद कांकाणी, उपाध्यक्ष श्री गोविन्द लाल सारडा आदि ने व्यासपीठ पर विराजे श्रद्धेय महाराजश्री का अभिनंदन किया। मिशन प्रवक्ता एवं विश्व जागृति मिशन के निदेशक राम महेश मिश्र ने बताया कि रेशमबाग़ ग्राउण्ड में विराट भक्ति सत्संग महोत्सव पाँच दिनों तक चलेगा, जिसका समापन १७ दिसम्बर (रविवार) को सायंकाल होगा। रविवार को ही सामूहिक गुरुदीक्षा का कार्यक्रम भी सम्पन्न होगा।