लंदन पार्लियामेंट में ‘एम्बेसडर ऑफ़ पीस’ अवार्ड से आचार्य डॉ. लोकेश मुनि हुए सम्मानित

लंदन/ अर्चना सक्सेना। लंदन पार्लियामेंट में अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक एवं प्रख्यात जैनाचार्य डॉ. लोकेश  को ‘एम्बेसडर ऑफ़ पीस’ पुरूस्कार से सम्मानित किया गया| अहिंसा, शांति व सद्भावना के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान को रेखांकित करते हुए लन्दन के ‘हॉउस ऑफ कॉमन’ में सांसद व आल पार्टी पार्लियामेंट्री ग्रुप के चेयरमैन बॉब ब्लैकमैन यह सम्मान प्रदान किया| लन्दन पार्लियामेंट में आचार्य लोकेश के संबोधन को सुनने के लिए विश्व की अनेक विशिष्ठ हस्तियां उपस्थित थी|

भारतीय संस्कृति अध्यात्म व  मानवीय मूल्यों का भण्डार – आचार्य डॉ. लोकेश मुनि

आचार्य डॉ. लोकेश मुनि ने इस अवसर पर लंदन पार्लियामेंट ‘हॉउस ऑफ कॉमन’ को ‘विश्व एक परिवार’ विषय पर संबोधित करते हुए कहा कि भारतीय संस्कृति आध्यात्मिक व मानवीय मूल्यों का भण्डार है| भारत और यू.के. के बहुत पुराने सम्बन्ध है| हम एक जैसे आदर्शों व सिद्धांतों को जीते है जिसने हमारे लोकतंत्र व नियति क रचना की है| औद्योगिक क्रांति ने ग्रेट ब्रिटेन को विश्व की ताकत बनाया और आध्यात्मिक व सांस्कृतिक ताकत ने भारत को  विविधता व ज्ञान की भूमि बनाया|  उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में शांति आवश्यक है| शांति के लिए संयुक्त प्रयास करने की जरूरत है, सद्भावना के साथ रहने से समाज विकसित होता है| आचार्य लोकेश ने शांतिपूर्ण विश्व व वातावरण की नई यात्रा प्रारंभ करने का संयुक्त संकल्प लेते हुए सम्मान प्रदान करने के लिए आभार व्यक्त किया|

आचार्य लोकेश का शांति व सद्भावना की स्थापना में महत्वपूर्ण योगदान – बॉब ब्लैकमैन

सांसद व ऑल पार्टी पार्लियामेंट्री ग्रुप के चेयरमैन बॉब ब्लैकमैन ने कहा कि आचार्य डॉ. लोकेश मुनि ने संयुक्त राष्ट्र संघ, विश्व धर्म संसद अनेक अन्तरराष्ट्रीय सम्मेलनों के माध्यम से विश्व शांति व सद्भावना का सन्देश दिया है| आचार्य लोकेश लंदन पार्लियामेंट में विश्व शांति व सद्भावना का सन्देश दे रहे है यह हमारे लिए गौरव का विषय है|आचार्य लोकेश को सम्मानित कर हम स्वयं सम्मानित हो रहे है

इंटरनेशनल सिद्धाश्रम शक्ति सेंटर द्वारा आयोजित कार्क्रम को संबोधित करते हुए संस्थापक व हिन्दू आध्यात्मिक गुरु श्री राजराजेश्वर जी ने प्रथम बार लंदन पार्लियामेंट  में ‘वासुदेव कुटुम्बकम’ कार्यक्रम के आयोजन पर सभी का स्वागत किया| भारत भूमि पर जन्मे आचार्य लोकेश को शान्तिदूत पुरूस्कार से सम्मानित करते हुए मुझे बेहद गौरव का अनुभव हो रहा है| भारत वासुदेव कुटुम्बकम, विश्व एक परिवार, में विश्वास रखता है| भारतीय इस धारणा को प्रतिदिन जीते है, हमारा उद्देश्य, सोच व जूनून इस एक मजबूत कथन से प्रभावित होते है| इस अवसर पर नोयडा फिल्म सिटी क संस्थापक श्री संदीप मारवाह ने भी अपने विचार व्यक्त किये |