फेसबुक पर करोड़ी ग्रुप की संख्या हुई एक लाख 

जयपुर। पांच ब्राह्मणों की हत्या पर ब्राह्मणों के समर्थन में कई हिन्दू ग्रुप में जातिवादी की संज्ञा की सुसज्जित होने पर धिक्कार और गाली खाने के बाद करोड़ी ग्रुप का विचार मस्तिक में आया। की क्या हिन्दू-हिन्दू करते करते हम अपने कुल का ही विनाश तो नही कर रहे है? उपदेश राणा जो तन मन धन से हिन्दुओं के लिए समर्पित है से इस सम्बन्ध में बात भी हुई। पर निश्चय किया कि अब हिन्दू रहते रहते हम ब्राह्मणों को भी एक होना चाहिए। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य या अपने भाई शुद्र एक होने पर अन्तोगत्वा एकता तो हिन्दुओ में ही हो रही है।

आज सभी एडमिन और सदस्यों को ह्रदय की गहराई से आभार प्रकट करता हूँ और प्रणाम करता हूँ।

इस गुप का उदेश्य ब्राह्मणों की सोई उर्जा को पुनह जाग्रत करना है। ज्ञान विज्ञान की पोस्ट डालकर सनातनी होने पर गर्व करने के लिए जगाना है। मन में ब्राह्मणों के लिए अपनेपन होने पर ही एकता संभव है। बहुत से ब्राह्मण समितियों में देखा है की एकता होते हुए भी अपनापन का अभाव दिखाई देता है। एकता कम आलोचना अधिक होती है या तो स्वजनों की या ब्राह्मण की दूसरी समितियों की। मेरी तुच्छ बुद्धि के अनुसार यदि किसी ब्राह्मण के ह्रदय में ब्राह्मण के लिए भाव नही है तो एकता संभव ही नही है।

बार बार लिखता हूँ की जमीन पर कार्य कर रही ब्राह्मण हित की समितियों से जुड़े और अच्छी नही है तो उसमें सुधार करें। फेसबुक से या व्हात्सप्प से आप अपने ज्ञान में, भाव में, ह्रदय में और सोचने में परिवर्तन अवश्य ला सकते है पर एकता नही हो सकती। सोशल मिडिया केवल आप तक समाचार और विचार पहुचाने का माध्यम भर है इससे अधिक कुछ नही।

जब ग्रुप बनाया था सो लिखा था की जिस दिन एक लाख हो गए उस दिन हम प्रयास करेगे की अब जमींन पर भी मिला जाए। अपने कहे अनुसार आप सभी यदि कोई विचार रखना चाहे तो स्वागत है और यदि संभव हुआ तो एक ब्राह्मण महाकुम्भ की कल्पना को साकार रूप दिया जा सकता है।

इस ग्रुप में संख्या बल अधिक मायने नही रखती ब्राह्मणत्व अधिक महत्वपूर्ण है। इसलिए आप के आदेश से जोड़ने से पहले यह अवश्य देखा जाता है की जिनको जोड़ रहे है वह ब्राह्मण है या नही? दुसरे हमारे अपने ही परिजन विजातियों को जोड़ने का प्रयास करते पाए जाते है उनको निष्कासित भी किया जाता रहा है। एक माह में 100 से अधिक ब्लोक, यह दर्शाता है की हम कितने लापरवाह है अपने ही भाइयो के हित के सन्दर्भ में..

यह ग्रुप किसी राजनितिक दल, किसी ब्राह्मण हित में चल रही संस्था या कोई अन्य का नही है यह आपका और हमारा है। यदि हम सब एडमिन जोड़ते तो शायद पांच या दस हज़ार जोड़ लेते पर हम सभी के प्रयासों से ही आज एक लाख की संख्या में जुड़ सके है। अधिक ना लिख जाये इसलिए…..

करोड़ी ब्राह्मण ग्रुप में एक लाख ब्राह्मणों को बधाई

-डॉ विजय मिश्रा

https//www.facebook.com/groups/brahminshakti/