कन्या के विवाह में विलंब हो तो क्या करें  

वाराणसी। कात्यायनि महामाये महायोगिन्यधीश्वरि। नंद गोपसुतं देविपतिं में कुरू ने नम: ।।

मां कात्यायनि देवी या पार्वती देवी के फोटो को सामने रखकर जो कन्या पूजन कर इस कात्यायनि मंत्र की 11 माला का जाप प्रतिदिन करती है , उस कन्या की विवाह बधा शीघ्र दूर होती है । कहते हैं भगवान श्री कृष्ण के रूप गुण पर बृज की सारी गोप- कनयाऐ इस प्रकार अनुरक्त हो चुकी थी कि प्रतयेक गोपी श्री कृष्ण को पति के रूप में प्राप्त करने की अभिलाषा अपने मन मे संजोकर रखे हुई थी। इस अभिलाषा की इच्छा को पूर्ण करने के लिए सभी ने कात्यायनि देवी का पूजन और इसी मंत्र का जपानुषठान किया ।

फलतः उन सभी की मनोभिलाषा पूर्ण हुई जितनी गोपियां थी, उतनी ही संख्या में शरीर धारण कर भगवान श्री कृष्ण उन्हें पति रूप में प्राप्त हुए । तभी से मां कात्यायनि देवी के पूजन और मंत्र – जप द्वारा पति को अविलम्ब प्राप्त करने की परंपरा हमारे समाज में कायम हैं । प्रत्येक सोमवार को कन्या सुबह नहा-धोकर शिवलिंग पर “ऊं सोमेश्वराय नमः” का जाप करते हुए दूध मिले जल को चढाये और वहीं मंदिर में बैठ कर रूद्राक्ष की माला से इसी मंत्र का एक माला जप करे ! विवाह की सम्भावना शीघ्र बनती नजर आयेगी।

लेखक अभय पाण्डेय प्रख्यात ज्योतिर्विद् हैं।

संपर्क- 9450537461, Email : abhayskpandey@gmail.com