कुंभ भारतीय संस्कृति का महापर्व है- योगी आदित्यनाथ

प्रयागराज/ मनीष दुबे। उत्तर प्रदेश संस्कृति विभाग द्वारा बनाया गया संस्कृति ग्राम और कला कुंभ आम लोगों के लिए खोल दिया गया। सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संस्कृति ग्राम और कला कुंभ विधिवत उद्घाटन किया। उद्घाटन के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि धर्म-अध्यात्म की दुनिया में लोग भारतीय सभ्यताओं से बाखबर होंगे। संस्कृति ग्राम में लोगों को सिंधु सभ्यता से लेकर भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन की झलक देखने को मिलेगी। आम लोगों को इसके बारे में जानकारी देने के लिए गाइड मौजूद रहेंगे। सीएम योगी ने गाइड्स को किट भी दिए।

वहीं संस्कृति ग्राम में बनाए गए 17 पंडालों में कलाकृतियों के जरिए सभ्यताओं का प्रदर्शन किया गया। सीएम ने पर्यटन मंत्री डॉ. रीता बहुगुणा जोशी और सूबे में मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी के साथ संस्कृति ग्राम का निरीक्षण किया। सीएम ने प्रवेश द्वार पर लगी समुद्र मंथन की आकर्षक मूर्ति की सराहना की। उन्होंने कुंभ कला पंडाल में राजकीय अभिलेखागार, संग्रहालय, निदेशालय, राज्य ललित कला अकादमी की प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया। इस दौरान सीएम ने कहा कि कुंभ भारतीय संस्कृति का महापर्व है। यहां आने वाले लोगों को धर्म अध्यात्म की अद्भुत दुनिया देखने को मिलेगी।

आप को ये जानना बेहद अहम है कि संस्कृति ग्राम आखिर है क्या? दरअसल संस्कृति ग्राम में सिंघु गंगा घाटी सभ्यता, वैदिक काल, रामायण युग, कृष्ण कथाएं, महाभारत काल, बुद्ध एवं महावीर, मौर्य काल, शुंग और कुषाण काल, गुप्त काल, वर्धन साम्राज्य, भारत में मंदिर वास्तु का विस्तार, भक्ति काल, इंडो इस्लामिक कला और स्थापत्य, मराठा साम्राज्य, 1857 प्रथम स्वतंत्रता संग्राम, सामाजिक और जागरूकता आंदोलन के साथ भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन से जुड़ी कहानियां कलाकृतियों के जरिए दिखाई गई हैं।

संस्कृति ग्राम और कला कुंभ का उद्घाटन करने पहुंचे प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का राज्य के अलग अलग इलाकों से आए लोक कलाकारों ने स्वागत किया। सड़क के दोनों ओर खड़े कलाकारों ने ढोल, नगाड़े बजाकर मुख्यमंत्री की आगवानी की। सीएम ने संस्कृति विभाग के वृत्त चित्र, वेबसाइट, काफी टेबल बुक का भी लोकार्पण किया। इस दौरान प्रमुख सचिव संस्कृति विभाग जितेंद्र कुमार, सूचना निदेशक शिशिर भी मौजूद थे।