योग का आशय विश्वास से नहीं बल्कि सत्य से है – स्वामी चिदानन्द सरस्वती

ऋषिकेश। विश्व विख्यात अन्तर्राष्ट्रीय योग महोत्सव के पांचवे दिन परमार्थ निकेतन में 95 से अधिक देशों से आये योग जिज्ञासुुु, योग राजदूत, योगाचार्य, पर्यावरणविदों एवं पूज्य संतों ने महर्षि योग आश्रम में आयोजित ध्यान सत्र में सहभाग किया।  इस सत्र का नेतृत्व परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज एवं अन्तर्राष्ट्रीय योग महोत्सव की निदेशक साध्वी भगवती सरस्वती जी ने किया। इस पावन अवसर पर वन और आयुष मंत्री उत्तराखण्ड सरकार श्री हरक सिंह रावत जी विशेष रूप से उपस्थित थे और उन्होने सभी योग साधकों का सम्बोधित किया। इस अवसर पर वन अधिकारी भी मौजूद थे।

पूज्य स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने कहा कि महर्षि आश्रम, चौरासी कुटिया में ’ध्यान’ और विश्व शान्ति हेतु ’मौन जप’ के आयोजन का ध्येय है कि साधक, शोर से दूर होकर शान्ति की ओर लौटे। इस परिसर  में शान्ति बनायें रखने का पूरा ध्यान रखा गया है क्योंकि यह एक पवित्र स्थान है। यह शोर करने का नहीं बल्कि वहां व्याप्त शान्ति को आत्मसात करने का स्थान है। यहां पर शान्ति बनायें रखने का विशेष ध्यान दिया गया ताकि साधक उस पवित्र क्षेत्र में व्याप्त शान्ति का अनुभव कर सके।

महर्षि आश्रम चैरासी कुटिया में जब 1968 में विश्व प्रसिद्ध अंग्र्रेजी राॅक बैंड, बैंड द बीटल्स आया था, यह बैंड द बीटल्स की 50 वीं वर्षगांठ है। यहां पर उनके द्वारा  लगभग 48  गाने लिखे गये थे और उन्हंे अत्यधिक प्रसिद्ध प्राप्त हुयी थी। वर्ष 2018 में बैंड द बीटल्स की 50 वीं वर्षगांठ पर पूज्य महर्षि जी के जीवन और शिक्षाओं को याद रखने हेतु बीटल्स महोत्सव मनाने का आयोजन किया है। स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज द्वारा ध्यान का आयोजन भी इसी परिपेक्ष्य में किया गया ताकि इस पवित्र महर्षि आश्रम चैरासी कुटिया  से शान्ति का संदेश दुनिया के सभी देशों तक पहुंचे और साधक ध्यान के पथ से परिचित हो सके। महर्षि महेश योगी, जिन्होने ट्रान्सेंडैंटल मेडिटेशन (अनुभवातीत ध्यान) तकनीक, जिसका सम्बंध मंत्र ध्यान से है विकसित की थी, जिसने पश्चिम जगत में भारतीय आध्यात्मिक पृष्ठभूमि को नया आयाम दिया।

परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष एवं परमार्थ निकेतन, अन्तर्राष्ट्रीय योग महोत्सव के प्रेरणास्रोत, स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने बताया कि महर्षि महेश योगी जी ने भारतीय योग और ध्यान को दुनिया के कई देशों में पहुंचाया है। उन्होने अनुभवातीत ध्यान की वैज्ञानिक विधा से दुनिया को अवगत कराया है यह विश्व के लिये अद्भुत सौगात है।
स्वामी जी महाराज ने कहा कि योग और ध्यान एक वैज्ञानिक विधा है। योग, कोई एक विषय या ग्रन्थ नहीं बल्कि यह जीवन पद्धति है; जीवन ऊर्जा है। योग का आशय विश्वास से नही बल्कि सत्य से है तथा योग का सम्बंध आन्तरिक और बाह्य दोनों से है अतः योग की ऊर्जा और शक्ति को आत्मिक उत्थान के साथ पर्यावरण संरक्षण के भी लगाये और यही संदेश इस योग की नगरी से लेकर जायें।

इस अवसर पर अन्तर्राष्ट्रीय योग महोत्सव की निदेशक डाॅ साध्वी भगवती सरस्वती जी ने कहा’’ध्यान अर्थात एकाग्रता तथा जागरूकता। हमारा हृदय, दूसरों की पीड़ा को अनुभव करे; प्रकृति के प्रति संवेदनशील बना रहे और दुनिया में व्याप्त समस्याओं के समाधान के लिये प्रयत्नशील रहे यही तो ध्यान है। उन्होने कहा कि प्रकृति के प्रत्येक जीव की पीड़ा को अनुभव कर उसकी सुरक्षा के लिये प्रयत्न करना ही ध्यान से उत्पन्न जागरूकता है और योगी ही प्रकृति का सबसे जागरूक प्राणी है।’’

ब्राजील से पधारे पूज्य प्रेम बाबा जी ने योग साधकों को महर्षि पंतजलि के अष्टांग योग यथा अहिंसा, सत्य, अस्तेय, ब्रह्मचर्य, अपरिग्रह, यम-नियम, आसन, प्र्राणायाम, प्रत्याहार, ध्यान, धारणा और समाधि के विषय में जानकारी दी।

पर्यावरणविद् डाॅ वन्दना शिवा ने कहा कि योग सकारात्मक ऊर्जा का संचार कराता है। जिस प्रकार माँ गंगा पूरे विश्व को एकता के सूत्र में बांधती है उसी प्रकार योग भी एकत्व को जन्म देता है। आज हम परमार्थ निकेतन में दुनिया के लगभग 100 देशों को एक साथ देख रहे है यह भारत के लिये गर्व का क्षण हैं। उन्होने कहा कि जहां पर दुनिया के लगभग आधे देश एकत्र हो वहां से उठी आवाज विलक्षण परिवर्तन कर सकती है। आज पर्यावरण प्रदूषण की समस्या किसी एक राष्ट्र की नहीं अपितु वैश्विक है अतः समाधन के लिये भी वैश्विक एकता की जरूरत हैं।

ब्राजील से पधारे पूज्य प्रेम बाबा जी ने ’योग आॅफ लव’ तथा पूज्य राधानाथ स्वामी जी ने ’भक्तियोग’ पर अत्यंत सारगर्भित उद्बोधन दिया।

ग्लोबल म्यूजिक एंड डांस कार्यक्रम के माध्यम से 95 देशों से आये योग साधकोें को यह संदेश दिया कि दुनिया की संस्कृतियों को एक साथ लाया जायें। यह कार्यक्रम रूसी संगीतकार डेनिस कुचेरोव द्वारा पारंपरिक भरतनाट्यम और गुजरात से आये भारत बराई ने गुजराती लोक नृत्य तथा ब्रिटेन, मंगोलिया और दुनिया के अन्य देशों से आये कलाकारों ने अपने पारंपरिक नृत्य प्रस्तुत कर यह संदेश दिया गया की ’हम सब एक है’।

अमेरिका से आये सिख योगगुरू एवं विश्व प्रसिद्ध योगाचार्य गुरूशब्द सिंह द्वारा कुण्डलिनी योग का अभ्यास कराया । परमार्थ निकेतन की योगाचार्य साध्वी आभा सरस्वती द्वारा पारम्परिक हठ योग,  इटली के राॅबर्टो मिलट्ति द्वारा ओदोका योग, दक्षिण अफ्रिका की योगाचार्य भाविनी कलान द्वारा मेटाफ्लो-नमस्कारम् योग, योगऋषि विश्व केतु द्वारा ’समग्र योग यात्रा’ के माध्यम से बताया कि योग एक कसरत नहीं बल्कि यह हमारा असली स्वभाव है यह हमें योग्य, निडर और आनन्द प्रदान कराता है। जापानी संगीतकार सेत्सो, मियाशीता, गुमी, केगो और मोमोको द्वारा जापानी पारंपरिक मंत्र का अभ्यास कराया गया। ऋषिकेश मूल के वर्तमान में चीन से आये प्रसिद्ध योगाचार्य मोहन भण्डारी योगी योगा, योगाचार्य राधिका नागरथ द्वारा गंगा के तट पर सूर्योदय सूर्य नमस्कार का अभ्यास कराया गया।
ब्रिटेन से आयी शाउल डेविड राई ने तंत्र योग, कैलिफोर्निया की योगाचार्य लौरा फ्लम्ब ने शक्ति-ब्रेथ आॅफ लाइफ, न्यूयार्क के जुल्स फर्रे ने जीवमुक्ति योग, शेरेन गैनोन ने जीवमुक्ति योग, जोना फासो ने संस्कृत मंत्र का उच्चारण, फ्राॅन्सका कैसिया द्वारा ओदोका योग का अभ्यास कराया। यह 20 वर्षो से अधिक समय से योग जिज्ञासुओं एवं योग शिक्षकों को योग ट्रेनिंग प्रदान कर रही है।
गुजरात के भरत बराई और अक्षय पटेल द्वारा भारतीय शास्त्रीय नृत्य कार्यशाला का आयोजन किया गया। भरत बराई कई देशों में भरतनाट्यम की शिक्षा देते है। डाॅ वन्दना शिवा ने योग और पर्यावरण के सम्बंध में विचार व्यक्त किये। शुभविला दास ने हनुमान चालीसा पर एक दिव्य व्याख्यान दिया। बाली के डाॅ आन्द्रे पेगे ने उपवास का महत्व बताया। कैलिफोर्निया के टाॅमी रोजेन ने योग के माध्यम से व्यसनों से उबरने के विषय में अवगत कराय। अंजना भगत ने अरोमाथेरेपी के माध्यम से ऊर्जा केन्द्रों को सन्तुलित करने की जानकारी दी। फ्रांसेस्का कैसिया ने कहा कि अन्तर्राष्ट्रीय योग महोत्सव हमारी आत्माओं को खोलता है; यह हमें जीवन के चमत्कारों से भर देता है। माँ गंगा हमारी आत्मा को पवित्रता से ओतप्रोत कर देती है यहां का संदेश लेकर हम एक बेहतर दुनिया बना सकते है।
नामिबिया, इक्वेडोर, आॅस्ट्रिया, आस्ट्रेलिया, केन्या, क्यूबा, चिली अर्जेंटीना, अफगानिस्तान, अफ्रीका, रूस, इजरायल, पेलस्टाईन, चीन, हांगकांग, सिंगापुर, ताईबान, इन्डोनेशिया, बैंकाक, फिलिस्तीन, ईरान, जापान, केन्या, इटली, अमेरिका, यमन, जापान, जर्मनी, ब्राजील, नार्वे, यूके, थाईलैण्ड, तुर्की, ब्रिटेन, दक्षिण अमेरिका, स्पेन, कनाड़ा और कई अन्य राष्ट्रों से आये योग राजदूतों ने सहभाग किया।