वरिष्ठ ज्योतिष मर्मज्ञ घनश्याम ठाकुर की भविष्यवाणी, 2019 में मोदी को नहीं मिलेगी सत्ता

नई दिल्ली। आज मैं देश में होने वाले आगामी लोकसभा चुनावों के संदर्भ में ज्योतिष की दृष्टि से विश्लेषण करने जा रहा हूं। कुछ लोग मोदी सरकार के दोबारा सत्ता में आने की भविष्यवाणी प्रसारित कर रहे हैं जो बिना किसी आधार के केवल लोगों को भ्रमित करने का प्रयास है। मैं पूर्ण तर्कों के साथ आगामी लोकसभा चुनावों में लोकसभा का क्या स्वरुप रहेगा इसकी चर्चा करूंगा। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी का जन्म 17 सितंबर 1950 को वृश्चिक लग्न में हुआ है जिस से उनका भाग्यांक 8 अंक है। 1, 4 प्रतिपूरक अंक भी उनके भाग्यांक हैं। उनका दशमेश (राज्य स्थान का स्वामी) लाभ स्थान में बुध के स्थान पर बैठकर बुधादित्य योग बना रहा है। यही कारण है कि वाणी और बुद्धि के प्रभाव से उन्होंने राजनीति में सर्वोच्च स्थान प्राप्त किया। सूर्य बुध के साथ आध्यात्मिक ग्रह केतु जो 7 अंक का प्रतिनिधित्व करता है, भी लाभ स्थान में है। केतु ध्वजा का भी प्रतीक है अतः शुभ ग्रहों का संयोग होने पर यह उनका फल कई गुणा तक बढ़ा देता है। आध्यात्मिक ग्रह केतु के प्रभाव से ही इस सोलहवीं लोकसभा जिसका मूल अंक 7 बनता है, में मोदी जी ने पूर्ण बहुमत प्राप्त किया और यह सब आध्यात्मिक संस्थाओं के सहयोग से भी सम्पन्न हुआ। यहां तक कि आध्यात्मिक गुरु श्री सतपाल जी जो अपने पूरे राजनैतिक जीवन में कांग्रेस में रहे, ने भी भाजपा का दामन थाम लिया था। रोचक तथ्य यह भी है कि 16वीं लोकसभा के चुनाव 7 चरणों में हुए और प्रथम चरण 7 अप्रैल 2014 से प्रारम्भ हुआ। 2014 का मूल अंक भी 7 बनता है। चुनाव के परिणाम भी 16 मई को ही आए। प्रधानमंत्री के आवास भी 7, रेसकोर्स रोड पर है। यही कारण है कि एक ही भाग्यांक होने के कारण वह सबसे सशक्त प्रधानमंत्री उभर कर आए और पार्टी के सभी वरिष्ठ नेताओं को eclipse कर दिया। 16वीं लोकसभा व अन्य पक्षों का मूल अंक आध्यात्मिक अंक 7 होने के कारण नमामि गंगा प्रोजेक्ट जिसमें एक आध्यात्मिक संस्था ने 1000 करोड़ रुपए का अंशदान दिया था, योग को अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के रुप में मान्यता मिली व स्वच्छता अभियान का आरम्भ हुआ। परन्तु इन सब उपलब्धियों के बावजूद जनता के साथ झूठे वायदे करना, भ्रष्टाचार को प्रश्रय देना, न्यायिक एवं संवैधानिक संस्थाओं का दमन करना, जनता से अच्छे दिन का वादा करने के बावजूद महंगाई के उच्चतम स्तर पर जाना, समाज को बांटने का प्रयास करना और सबसे बड़ी बात अहंकार होना, यही सब मोदी सरकार के पतन के कारण बनेंगे।
यहां यह ज्ञातव्य रहे कि आगामी लोकसभा 17वीं लोकसभा होगी। अतः 8 अंक अर्थात् शनि देव का प्रभुत्व रहेगा। आगामी संवत् जो 6 अप्रैल 2019 से प्रारम्भ हो रहा है उसमें आकाशी कौंसिल में शनिदेव को ही राजा का अधिकार भी प्राप्त है। शनिदेव न्याय के देवता हैं और झूठ बिल्कुल भी नहीं मानते। यह भी सर्वविदित है कि शनिदेव कर्मों के फलदाता हैं। इसी कारण मोदी जी का भाग्यांक 8 होने के बावजूद अहंकार और झूठ बोलने के कारण मोदी जी का सत्ताच्युत होना निश्चित है।
एक नई राजनीतिक पार्टी “सत्यनिष्ठ जन सेवक पार्टी” का गठन दिनांक 17 अक्टूबर 2018 को हो चुका है। अतः शनिदेव की अपार कृपा से सत्यनिष्ठ जन आगामी लोकसभा में चुन कर आएंगे और क्योंकि शनिदेव वयोवृद्ध हैं वरिष्ठ लोग जो वानप्रस्थ आश्रम में प्रवेश कर चुके हैं अधिक संख्या में जीत कर आएंगे। सत्यनिष्ठ जन सेवक पार्टी पूर्ण बहुमत के साथ केन्द्र में सरकार बनाएगी। आम आदमी पार्टी संख्याबल में दूसरे स्थान पर उभर कर आएगी। मैं अपने इस कथन का भी तार्किक रुप से ज्योतिष की दृष्टि से विश्लेषण कर रहा हूं। आम आदमी पार्टी का गठन 26 नवंबर 2012 को हुआ। अतः इस पार्टी का मूलांक भी आठ है। 1 व 4 इसके प्रतिपूरक अंक होने के कारण इस पार्टी के भाग्यांक हैं। यह पार्टी आन्दोलन से जन्मी है तो इसका कारक ग्रह राहु है जो आन्दोलन करवाता है व राजनीति का कारक ग्रह भी राहु ही है। यही कारण है कि इतिहास में पहली बार कोई मुख्यमंत्री धरने पर बैठा है। इनका चुनाव चिन्ह झाड़ू भी राहु का प्रतिनिधित्व करता है। आम आदमी पार्टी के अक्षर भी 13 होते हैं। यही कारण है कि जब यह पार्टी प्रथम बार 2013 में चुनाव में उतरी थी तो चुनाव 4 दिसम्बर 2013 को हुआ था जो इनका भाग्यांक है। परिणाम 8 दिसंबर को प्राप्त हुए थे। मैंनें इस बारे में पहले ही भविष्यवाणी कर दी थी कि केजरीवाल दिल्ली में सरकार बनाएगा जबकि किसी भी ज्योतिषी ने उनकी सरकार बनने की भविष्यवाणी की थी। मीडिया भी उनको 2-3 देने का कयास लगा रहा था जबकि इस चुनाव में आम आदमी पार्टी को 28 सीटें प्राप्त हुई थी और 28 दिसंबर को केजरीवाल ने सरकार बनाई थी जो 49 दिन (मूलांक 4) चली थी। वर्तमान में दिल्ली में 8वीं विधानसभा गठित है जिसमें इन्होंने 67 सीटें लेकर प्रचण्ड बहुमत प्राप्त किया था। क्योंकि इस पार्टी में भी भ्रष्टाचार के आरोप लगे धे और इसका नेतृत्व अहंकार से ग्रसित हो गया था। अतः शनिदेव के न्याय विधान के अनुसार यह भी पूर्ण बहुमत प्राप्त न कर दूसरे नम्बर पर सिमट जाएगी।

श्री घनश्याम ठाकुर, वरिष्ठ ज्योतिष मर्मज्ञ