मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि गंगा और हिमालय हमारे देश की दिव्यता और भव्यता को बरकरार रखें

ऋषिकेश। परमार्थ निकेतन में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथजी एवं उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत जी पहुँचे। उन्होने परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष श्री स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज के साथ गंगा के लिए सकारात्मक बातचीत की। स्वामी जी ने चर्चा के दौरान गंगा नदी का प्रवाह अविरल बनाए रखने और गंगा को प्रदूषण मुक्त करने, पौधरोपण, गंगा को हरीतिमा अभियान, इलाहबाद कुंभ नगरी से हरीतिमा अभियान, उत्तर प्रदेश के प्रत्येक व्यक्ति तक शुद्ध जल व शुद्ध प्राणवायु की उपलब्धता, जैविक खेती, प्रत्येेक परिवार के लिये शौचालय सुविधा उपलब्ध कराना, स्वच्छता, पर्यावरण, वृक्षारोपण आदि विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की।
स्वामी जी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी एवं उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत जी को ”स्वचछ कुम्भ, स्वच्छ भारत” अभियान हेतु एक विस्तृत रिपोर्ट भी उन्हे दी ताकि कुम्भ पर्व के ऐतिहासिक अवसर पर पूरे भारत को एक दिशा दी जा सके। चाहे कोई बस में बैठा हो ट्रेन में हो अन्य सार्वजनिक स्थल पर, कैसे हर व्यक्ति को स्वच्छ मुक्त जागरण अभियान से जोड़ा जा सके। श्री योगी जी ने इस दिशा निर्देश एवं प्रेरणा के लिये स्वामी जी का धन्यवाद ज्ञापन किया।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने स्वामी जी को बताया कि 2019 में होने वाले महाकुंभ मेले की तैयारियां शुरू हो चुकी है। जिसकी धमक लंदन में भी सुनाई दे रही है। दरअसल हिन्दू सनातन संस्कृति की अमूल्य धरोहर व यूनेस्को से सांस्कृतिक धरोहर घोषित प्रयाग कुंभ की तस्वीर लंदन में दिखाई पड़ रही है। यूपी मे 2019 में होने वाले महाकुंभ को ऐतिहासिक मनाने की कवायद तेज हो गयी है। इसी क्रम में कुंभ की ब्रांडिग विश्व के 200 देशों में की जायेगी। कुंभ में दुनिया भर से लोगों को आमंत्रित करने के लिए जबरदस्त काम चल रहा है। इस मेगा इवेंट की शुरूआत लंदन से की गयी है जहाँ पर फोटो के जरिए कुंभ की भव्यता व पौराणिक महत्व को दिखाया गया है।  श्री योगी जी ने कहा कि हमारी की मंशा है कि दुनिया भर के लोग कुंभ में स्नान करने आये और पुण्य लाभ कमाये। अभी तक किसी सरकार ने कुंभ को विश्व स्तर पर इतना अधिक बढ़ावा नहीं दिया था। श्री योगी जी ने बताया कि पीएम श्रह नरेन्द्र मोदी से लेकर स्वयम् भी उन्होंने कुंभ की तैयारी व ब्रांडिग पर सीधी नजर रखी हुई है। लंदन में शुरूआत के बाद 200 देशों में मेगा रोड शो का भी आयोजन किया जा रहा है। ऐसा करने से अधिक से अधिक विदेशी सैलानियों का ध्यान कुंभ पर पड़ेगा और वह रेती पार संगम पर लगने वाले इस अद्भृत स्नान की जानकारी लेने के साथ उसका लाभ भी उठा सकेंगे।
स्वामी जी ने कहा कि कुम्भ से पूर्व परमार्थ निकेतन, गंगा एक्शन परिवार प्रयाग क्षेत्र में वृक्षारोपण का बृहद कार्यक्रम प्रारम्भ करेगा।
श्री स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने कहा गंगा नदी, गंगोत्री से लेकर गंगा सागर तक 2525 किलोमीटर की दूरी तय करती हैं। पांच राज्यों से होकर गुजरने वाली गंगा नदी अकेले उत्तर प्रदेश में 1140 किलोमीटर क्षेत्र से गुजरती हुई अपना आशीर्वाद देती है। गंगा के किनारे स्थित 27 जिलों में गंगा नदी के किनारे कम से कम 200 मीटर के दायरे में सघन वृक्षारोपण की आवश्यकता है। हरियाली से जलस्तर भी बढ़ेगा और प्रदूषण भी कम होगा। वायुमण्डल में ग्रीन हाउस गैसों के बढ़ते जमाव के कारण हमारी धरती पर ग्लोबल वार्मिंग का खतरा मंडरा रहा है।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी एवं उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत जी को पूज्य स्वामी जी ने आश्वासन दिया कि उत्तर प्रदेश एवं उत्तराखण्ड में जल्द ही गंगा नदी के किनारे के दायरे में सघन वृक्षारोपण का कार्य जल्द ही शुरु करायेंगे। प्रयाग में 2019 में लगने वाले इलाहबाद कुंभ मेले तक गंगा नदी का प्रवाह अविरल बनाए रखने हेतू पुरजोर प्रयास जारी रहेगा और गंगा को प्रदूषण मुक्त करने के लिए गंगा हरीतिमा अभियान जारी रहेगा।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी श्री आदित्यनाथ जी ने कहा कि राज्य को भ्रष्टाचार और अपराध मुक्त बनाने के साथ ही राज्य की कानून व्यवस्था को सुदृढ़ करना ही प्रदेश शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता है।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथजी जी एवं मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत जी को पूज्य स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज जी एवं महामण्डलेश्वर स्वामी असंगानन्द सरस्वती जी ने शिवत्व का प्रतीक रूद्राक्ष का पौधा भेंट कर प्रभु  से उनके यश एंव उज्जवल भविष्य की कामना की।