राज्यपाल और मुख्यमंत्री ने पूर्व प्रधानमंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री को किया नमन

लखनउ। उत्तर प्रदेश के राज्यपाल श्री राम नाईक जी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने पूर्व प्रधानमंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री जी की जयंती के अवसर पर लाल बहादुर शास्त्री भवन स्थित उनकी प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की।

राज्यपाल जी ने कहा कि शास्त्री जी की ईमानदारी सदैव प्रासंगिक रहेगी। शास्त्री जी के नेतृत्व में वर्ष 1965 के युद्ध में भारत ने पाकिस्तान पर जीत हासिल की थी। शास्त्री जयंती के अवसर पर श्री लाल बहादुर शास्त्री जी की प्रतिमा पर यह कार्यक्रम आयोजित किए जाने के लिए मुख्यमंत्री जी के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि शास्त्री भवन के परिसर में आयोजित इस कार्यक्रम में उन्हें भी शामिल होने का सौभाग्य मिला। इस कारण उत्तर प्रदेश राज्यपाल के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान वे पहली बार शास्त्री भवन आए हैं।

मुख्यमंत्री जी ने अपने सम्बोधन में कहा कि भारत के विकास में श्री लाल बहादुर शास्त्री जी का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। शास्त्री जी के नेतृत्व में भारत को जो सम्मान मिला वह पूरा विश्व जानता है। शास्त्री जी का मानना था कि किसान व जवान को सम्मान देकर ही सम्पूर्ण प्रभुत्व-सम्पन्न राष्ट्र की संकल्पना को साकार किया जा सकता है। इसीलिए उन्होंने ‘जय जवान जय किसान’ का लोकप्रिय नारा दिया। उन्होंने कहा कि शास्त्री जी की सादगी व सत्यनिष्ठा हम सभी के लिए अनुकरणीय है। उन्होंने कहा कि शास्त्री जी की जयंती पर शास्त्री भवन में यह कार्यक्रम पहली बार आयोजित किया गया है, जिसमें प्रदेश के राज्यपाल और मुख्यमंत्री सम्मिलित हुए हैं।

इस अवसर पर नगर विकास मंत्री श्री सुरेश खन्ना, मुख्य सचिव श्री राजीव कुमार, प्रमुख सचिव सूचना श्री अवनीश कुमार अवस्थी सहित शासन-प्रशासन के अधिकारी तथा अन्य गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।