CM योगी का प्रयागराज दौरा, तीन अखाड़ों की धर्म ध्वजा में हुए शामिल

प्रयागराज/ देवेश दुबे। सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ कुंभ की तैयारियों का जायजा लेने प्रयागराज पहुंचे। संतों, धर्माचार्यों और बीजेपी नेताओं ने उनका स्वागत किया। सीएम ने योगी संगम क्षेत्र में दिगम्बर अनी अखाड़ा, पंच निर्मोही अनी अखाड़ा और पंच निर्वाणी अनी अखाड़ा के धर्म ध्वजा पूजन में शामिल हुए। उन्होंने मेला क्षेत्र में अन्य अखाड़ा के शिविरों का निरीक्षण किया। इसके अलावा सीएम ने लेटे हनुमान का दर्शन भी किया। यहां उन्होंने केसरी नंदन की पूजा-अर्चना की। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी के मुताबिक सीएम ने सभी अखाड़ों का भ्रमण किया। राम मंदिर के पक्षकार और निर्वाणी अनि अखाड़ा के श्रीमहंत धर्मदास ने बताया कि चुनाव से पहले अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण होगा और यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खुद पहली ईंट रखेंगे।

कुंभ में यात्रियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए सीएम योगी ने शटल बसों और ई-रिक्शे को हरी झंडी दिखाई। इस मौके पर सीएम योगी ने कहा कि, प्रयागराज की धरती पुण्य की धरती है। यह निषादराज गुहा और भगवान श्रीराम के मिलन की भी धरती है। इस धरती पर मानवता के सबसे बड़े समागम को वैश्विक मान्यता मिली है। सीएम ने नाविकों से अनुरोध है कि अतिथि देवो भव के साथ चलें। हमने अतिथि को देव तुल्य समझा है। उसकी सेवा और सुविधा उपलब्ध कराने की भी जिम्मेदारी है। यही नहीं सीएम ने संगम की महत्ता को बताते हुए कहा कि यहां पर अदृश्य शक्तियों का प्रभाव है, जो लोगों को बरबस यहां खींच लाती है। एक ही प्रयास और भाव है कि, यहां आने वाले लोगों को किसी भी परेशानी का सामना न करना पड़े। उन्होंने प्रदेश के विकास की चर्चा के दौरान बताया कि डेढ़ वर्ष से कम समय में दस फ्लाईओवर, 264 सड़कों को बनाया गया है। कुम्भ के क्षेत्रफल का विस्तार किया गया है।

मिली जानकारी के मुताबिक सीएम प्रयागराज में कुल आठ घंटे बिताएंगे। सबसे अहम यह है कि इसमें से साढ़े चार घंटे का समय वह अखाड़ों को देंगे।