मुख्यमंत्री ने जनपद चित्रकूट में रामायण गैलरी एवं पर्यटन सुविधा केन्द्र, परिक्रमा मार्ग कवर्ड शेड, रामघाट पर लेजर शो आदि परियोजनाओं का शिलान्यास किया

लखनउ/ बुशरा असलम। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज जनपद चित्रकूट भ्रमण के दौरान पुलिस लाइन में आयोजित जनसभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि बुन्देलखण्ड क्षेत्र में पर्यटन की काफी संभावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि बुन्देलखण्ड की ओर पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए कालिंजर के किले तथा झांसी स्थित रानी लक्ष्मीबाई किले का विकास किया जायेगा। इस क्षेत्र में पर्यटन के विकास में प्रदेश सरकार पूरा सहयोग देगी। साथ ही, केन्द्र सरकार से भी इसके विकास में सहयोग लिया जाएगा। चित्रकूट को हाई-वे मार्ग से जोड़ा जायेगा। इन योजनाओं से जनता को राहत मिलेगी व लोगों को रोजगार मिलेगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार बुन्देलखण्ड के लोगों के जीवन में खुशहाली लाने का भरसक प्रयास कर रही है।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने जनपद चित्रकूट में रामायण गैलरी एवं पर्यटन सुविधा केन्द्र के लिए 1242.63 लाख रुपये, परिक्रमा मार्ग कवर्ड शेड हेतु 1080 लाख रुपये, रामघाट पर लेजर शो 845.78 लाख रुपये, रामघाट एवं मध्य प्रदेश को जोड़ने हेतु फुट ओवर ब्रिज 428.31 लाख रुपये ,टैक्सी स्टैण्ड रामघाट में पार्किंग एवं फूड प्लाजा 467 लाख रुपये, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र रैपुरा 511.87 लाख रुपये, राष्ट्रीय प्रेक्षागृह किशोर 957.03 लाख रुपये कुल 5432.62 लाख रुपये के कार्यों का शिलान्यास किया।
सीएम योगी ने कहा कि फसल ऋण मोचन योजना के तहत इस जनपद के 19 हजार 628 कृषकों के खातों में अब तक 1139347599.93 रुपये की धनराशि अन्तरित की जा चुकी है। इस अवसर पर उन्होंने लाभार्थियों को स्वीकृति प्रमाण-पत्र वितरित किये। उन्होंने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 5740 लाभार्थियों को स्वीकृति प्रमाण-पत्र भी बांटे। उन्होंने कहा कि इन लोगों को आवास निर्माण के लिए 40 हजार रुपये की प्रथम किस्त उनके बैंक खातों में पहुंचायी जा चुकी है। उन्होंने भारत सरकार की पंडित दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के तहत सुगम विद्युत संयोजन योजना में बी0पी0एल0 परिवारों को निःशुल्क कनेक्शन के स्वीकृति प्रमाण-पत्र भी लाभार्थियों में वितरित किये।
श्री योगी ने जनपद चित्रकूट के हर्दीकला मऊ में 302 लाख रुपये की लागत से निर्मित माॅडल स्कूल, मानिकपुर में 277.76 लाख रुपये की लागत से निर्मित 30 शैय्या के मैटरनिटी विंग, शिवरामपुर में 290.51 लाख रुपये की लागत से निर्मित 30 शैय्या के मैटरनिटी विंग, रौली कल्याणपुर के बजनी पुरवा (पाते पुरवा) के 1.60 किलोमीटर लम्बे सम्पर्क मार्ग का कार्य लागत 113.62 लाख रुपये, चिल्लीराकस का मजरा यादव पुरवा सम्पर्क मार्ग 1.10 किलोमीटर लागत 85.17 लाख रुपये तथा 78.00 लाख रुपये की लागत से निर्मित बसिला से गुड्डू पुरवा सम्पर्क मार्ग का लोकार्पण किया।
मुख्यमंत्री ने क्षेत्र पंचायत मानिकपुर के अंतर्गत डरी रेलवे फाटक से रेलवे स्टेशन से मानिकपुर तक पक्के सम्पर्क मार्ग का निर्माण कार्य एवं 4 नम्बर एक हजार एम0एम0 डाया हयूम पाइप पुलियों सहित लम्बाई 2 किलोमीटर लागत 120.81 लाख रुपये, राजापुर बोड़ी पोखरी पक्के मार्ग से ग्राम अमानपुर तक पक्के सम्पर्क मार्ग का निर्माण कार्य लम्बाई 2.50 किलोमीटर लागत 195.54 लाख रुपये, विकास खण्ड मऊ के ग्राम बियावल से चन्देल पुरवा होते हुए यमुना के डेरा तक पक्के सम्पर्क मार्ग का निर्माण कार्य 1.50 किलोमीटर लागत 114.30 लाख रुपये एवं विकास खण्ड रामनगर के ग्राम रगौली के ग्राम भदेउरा तक सम्पर्क मार्ग का निर्माण कार्य 2.50 किलोमीटर लागत 201.59 लाख रुपये आदि परियोजनाओं का भी लोकार्पण किया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि इस पावन भूमि पर मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम ने काफी समय व्यतीत किया था। यहां के संतों, कोल-भीलों ने श्रीराम को सहयोग देकर उनके वनवास को सफल बनाया। उन्होंने कहा कि ऐसी पावन भूमि को नमन करना चाहिए। उन्होंने कहा कि बुन्देलखण्ड में प्रचलित अन्ना प्रथा को खत्म किया जाएगा। साथ ही, राज्य सरकार द्वारा मंदाकिनी की धारा को अविरल बनाये रखने के लिए योजना बनायी जाएगी।
इसके पूर्व, मुख्यमंत्री ने जिला चिकित्सालय का औचक निरीक्षण किया, जिसके दौरान उन्होंने मरीजों से इलाज की गुणवत्ता और दवाओं की उपलब्धता के बारे में जानकारी प्राप्त की। उन्होंने मरीजों से चिकित्सकों तथा स्टाफ के बारे में भी जानकारी प्राप्त की। उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधीक्षक को निर्देश दिये कि नर्सिंग की ट्रेनिंग वाले पात्र अभ्यर्थियों को संविदा पर स्टाफ नर्स के रूप में भर्ती करें। साथ ही, आयुष चिकित्सकांे की भी भर्ती आवश्यक प्रक्रिया पूरी करने के बाद की जाए। उन्होंने इमरजेंसी वार्ड में मरीजों का हालचाल लिया व दवाई इत्यादि के बारे में भी पूछा। उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधीक्षक तथा डाॅक्टरों को निर्देशित किया कि मरीजों को बाहर से दवाइयां न लिखी जायें और साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाय।
प्रातः मुख्यमंत्री ने भगवान कामतानाथ की पूजा आर्चना करने के बाद मठ, मंदिरों के दर्शन करते हुए भरत मिलाप मंदिर के पास वृक्षारोपण किया। उन्होंने पटेल तिराहा में सरदार वल्लभ भाई पटेल जी के चित्र पर माल्यार्पण भी किया। उन्होंने पटेल तिराहा से एल0आई0सी0 चैराहा तक स्वच्छता कार्यक्रम में भाग लिया व मौजूद लोगों को स्वच्छता की शपथ दिलायी। जनपद भ्रमण के दौरान उन्होंने मां मंदाकिनी की आरती भी की।
जनसभा को राज्य सरकार की पर्यटन मंत्री श्रीमती रीता बहुगुणा जोशी ने भी सम्बोधित किया। कार्यक्रम में राज्य सरकार के कई मंत्रिगण, सांसद, विधायक सहित जिला प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।