बकरीद पर जानवरों की कुर्बानी के लिए स्लॉटर हाउस को कंडिशनल परमिशन दी जाए- फरंगी महली

लखनऊ/ बुशरा असलम। इस्लामिक सेन्टर आफ़ इण्डिया के चेयरमैन मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने योगी सरकार से अपील की है कि बकरीद में जानवरों की कुर्बानी के लिए स्लॉटर हाउस को कंडिशनल परमिशन दी जाए। उन्होंने कहा- ”इस बार प्रदेश में कई स्लॉटर हाउस बन्द है, ऐसे में बड़ी दिक्कत है कि लोग अपने जानवरों की कुर्बानी कहां दें। फरंगी महली ने कहा कि स्लॉटर हाउस में कुर्बानी करने से बड़ी सहूलियत मिल जाती थी। खासकर कुर्बानी का जो खून होता है, उसको आसानी से डिस्पोज़ कर दिया जाता था। अब अगर लोग इसे अपने घरों में करेंगे तो बड़े पैमाने पर दिक्कतें आने वाली हैं। हम समझते हैं हुकूमत को इसपर ध्यान देना चाहिए और इन 3 दिनों तक स्लॉटर हाउस को कंडिशनल परमीशन दे देनी चाहिए।

फरंगी महली ने कहा कि इस सिलसिले में मीडिया के जरिए अपील कर रहे हैं कि हुकूमत इस मामले पर ध्यान दे। अभी तक कोई भी क्लियरेंस नही है।
वहीं उन्होंने जनता से भी अपील की है कि कुर्बानी करें तो जानवरों के खून को जमीन में दफन कर दें, उसके अलावा जो जानवरों का वेस्ट है उसको नगर निगम की गाड़ियों में ही डालें। इधर उधर न डालें।

गौरतलब है कि यूपी में योगी सरकार बनने के बाद अवैध स्लॉटर हाउस को बंद कर दिया गया था। इस फैसले के खिलाफ मीट करोगारियों ने हड़ताल भी की थी। वहीं, मीट कारोबारियों का एक डेलिगेशन सीएम योगी से भई मिला था। सूत्रों के मुताबिक, यूपी में 400 से ज्यादा अवैध स्लॉटर हाउस हैं। इनके बंद होने से यूपी में मीट से जुड़े 11 हजार करोड़ रुपए के कारोबार पर असर पड़ा है। स्टेट पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड के मुताबिक, यूपी में 185 बूचड़खाने हैं। इनमें से 45 के पास लाइसेंस है। जबकि 140 बूचड़खाने बिना परमिशन के चल रहे हैं।