किसी भूले को राह दिखाने का मौका मिले तो चूकना मत – बाबा बलराम दास जी महाराज

मथुरा/ मदन सारस्वत। जो व्यक्ति दूसरो को सहारा देता है उसे अपने लिए सहारा मांगना नहीं पडता, परमात्मा स्वतः उसे दे देता है। किसी प्यासे को पानी पिलाने का, किसी गिरते हुए को उठाने का, किसी भूले को राह दिखाने का अवसर मिल जाये तो चूकना मत क्योंकि ऐसा करने से आप बहुत त्रृण से मुक्त हो जाओगे। इस पावन कार्य में लगे सभी को मैं साधुवाद देता हूँ। यह विचार बाबा बलराम दास जी महाराज ने गोयल ब्रदर्स, कोलकाता के सौजन्य से कल्याणं करोति, मथुरा द्वारा आयोजित निःशुल्क नेत्र चिकित्सा शिविर के समापन समारोह के अवसर पर कही।
इस मौके पर भागवता प्रवक्ता डाॅ0 मनोज मोहन शास्त्री ने कहा कि मन्दिर में पूजा करने के अलावा यदि पीड़ित मानव की सेवा की जाये तो वह साक्षात बिहारी जी की सेवा है। कल्याणं करोति द्वारा नव वर्ष के द्वितीय दिन अद्वितीय कार्य किया जा रहा है। जो जीवन का सार है इस प्रकार के आयोजनो से हमें प्रेरणा लेनी चाहिए।

महंत प्रहलाद दास ने कहा कि मनुष्य का शरीर बडे़ भाग्य से मिलता है। इसका सही उपयोग कर पीड़ित व्यक्ति की पीड़ा दूर करने में सहयोग करे। जिससे मानव देह की सार्थकता हो सके।

कार्यक्रम के दौरान एडीएम रविन्द्र कुमार ने कहा कि कल्याणं करोति बृज क्षेत्र में परोपकार का कार्य कर रही है। इसकी जितनी सराहना की जाए उतनी कम हैं। दिव्यागों के लिए उपकरण और नेत्र आॅपरेशन आदि दृष्टि प्रदान करने में जो उपकार किया जा रहा है वह अत्यन्त सराहनीय है इस कार्यक्रम से जुुड़े लोगों को मेरी शुभकामनाएं।

सुनील कुमार शर्मा ने कहा कि गोयल ब्रदर्स, कोलकाता के सौजन्य से कल्याणं करोति, मथुरा द्वारा आयोजित निःशुल्क नेत्र चिकित्सा शिविर में दूर दराज के अंचलों से आये 2814 नेत्र रोगियों ने पंजीकरण कराकर परीक्षण कराया जिसमें से 736 नेत्र रोगियों के आॅपरेशन सम्पन्न किये गये। शिविर में आॅपरेशन के योग्य पाये गये नेत्र रोगियों को पंलग बिस्तर दवा चश्मा, भोजन की व्यवस्था पूर्णतः निःशुल्क रूप से की गई।

इस अवसर पर महंत चित्त प्रकाशानन्द, जगदीश शर्मा सुपानिया, राजेश गोयल, ट्रस्टी, समता अग्रवाल, सुनीता, सीमा, खेतान, धूर्व अग्रवाल, पूजा अगव्राल, प्रवीन भारद्वाज, राजेश दीक्षित आदि विशिष्टजनों की मौजूदगी रही।