अमरनाथ यात्रा में आतंकी हमले का साया, सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद

पाकिस्तान एक बार फिर एक अधर्मी साज़िश रच रहा है…वो मासूम लोगों की हत्या करना चाहता है…और इसके लिये अमरनाथ यात्रा को निशाना बनाने की तैयारी कर रहा है…ख़ुफ़िया विभाग ने गृह मंत्रालय को रिपोर्ट दी है…कि इस वक़्त जम्मू-कश्मीर में 12 आतंकी घुसपैठ कर चुके हैं…औरर उनके निशाने पर है अमरनाथ यात्री…10 जुलाई 2017 को अमरनाथ यात्रा पर हुए हमले के बाद अब सुरक्षा एजेंसियों के पास सबसे बड़ा चैलेंज है कि वो हमले से पहले इन आतंकियों का ख़ात्मा करे दे..

एक बार फिर पाकिस्तान के आतंकी भारत में हिंदुओं के सबसे बड़े तीर्थस्थलों में से एक अमरनाथ पर हमला करने की फ़िराक़ में हैं.. ख़ुफ़िया सूत्रों के मुताबिक़ पाकिस्तान के क़ब्ज़े वाले कश्मीर से 12 आतंकवादी जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ कर चुके हैं और ये सभी अमरनाथ यात्रा पर हमला करने के मिशन से आए हैं ख़ुफ़िया एजेंयिसों ने गृह मंत्रालय को भेजी रिपोर्ट में ये जानकारी दी है हाल में एक अमरनाथ यात्रा के रूट के पास हुए आतंकियों के एनकाउंटर ने सुरक्षाबलों को और अलर्ट कर दिया है

याद कीजिये 10 जुलाई 2017 का वो दिन…जब आतंकवादियों ने पिछले साल अमरनाथ यात्रा से वापस लौट रही गुजरात की एक बस पर हमला कर दिया था…इसमें सात श्रद्धालुओं की मौत हो गई थी…बस पर हमला शाम के वक्त हुआ था. बस ड्राइवर की समझदारी की वजह से कई यात्रियों की जान बस गई थी..और पाकिस्तान के आतंकी अब यही हमला दोहराना चाहते हैं…ख़ुफिया एजेंसियों के मुताबिक़ 12 पाकिस्तानी आतंकी 10 जून को जम्मू-कश्मीर में दाख़िल हुए
ये दो ग्रुप में बंट चुके हैं…इनमें 6 आतंकवादी लश्कर के बताये जा रहे हैं
पाकिस्तानी की ख़ुफिया एजेंसी ने इन्हें पीओके में केल लॉन्च पैड से जम्मू-कश्मीर में भेजा है

लेकिन सुरक्षाबलों की तैयारी भी पूरी है CRPF के डीआईजी मोहसिन शाहिदी ने बताया कि इस बार हमने सुरक्षा बढ़ाई है। यात्रियों के लिये सड़क पर सुरक्षा को और बेहतर किया है। अमरनाथ यात्रा के सभी कैंप पर CRPF के जवान तैनात हैं और उनकी ख़ास तरह से हिफ़ाज़त की जा रही है। इस बार सरकार अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा को बहुत अहमियत दे रही है..रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण से लेकर आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने अमरनाथ सिक्योरिटी पर नज़र बनाई हुई है

अब तक दो लाख से अधिक लोगों ने यात्रा के लिए रजिस्ट्रेशन कर लिया है। अमरनाथ गुफा पहुंचने के लिए लगभग 40,000 श्रद्धालुओं ने हेलिकॉप्टर का टिकट खरीदा है मंगलवार से तत्काल रजिस्ट्रेशन शुरू होगा तब श्रद्धालुओं की संख्या और बढ़ने की संभावना है अगर पिछले वर्षों की बात करें तो 2014 में 3.7 लाख श्रद्धालु अमरनाथ गुफा पहुंचे थे
वहीं 2017 में 2.6 लाख श्रद्धालुओं ने अमरनाथ यात्रा की

CRPF के डीआईजी मोहसिन शाहिदी ने बताया कि कश्मीर की जनता ने हमेशा अमरनाथ यात्रा में मदद की है। मुझे यक़ीन है कि उनकी मदद से हम कड़ी सुरक्षा व्यवस्था देंगे 60 दिन तक चलने वाली अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा में इस बार जम्मू-कश्मीर पुलिस के साथ-साथ NSG, CRPF, सेना, ITBP के जवानों को लगाया गया है यात्रा पर भले ही आतंक का खौफ मंडरा रहा हो…लेकिन श्रद्धालुओं के उत्साह में कमी नहीं है लोग जोश में हैं…सुरक्षा व्यवस्था से ख़ुश हैं…लेकिन आतंकियों को लेकर अलर्ट के बाद मुस्तैदी और बढ़ानी होगी पवित्र अमरनाथ गुफा के दर्शन के लिए दो रास्तों से जाया जाता है. जम्मू से पहलगाम होते हुए एक रास्ता जाता है जबकि दूसरा श्रीनगर से बालटाल होते हुए जाता है…इन दोनों रास्तों पर चप्पे चप्पे पर जवान तैनात किये गये हैं…