आनन्दधाम नई दिल्ली के सदस्य बोले- कर्णावती में रहे बड़े आनन्ददायी दिन

अहमदाबाद। विश्व जागृति मिशन के अहमदाबाद मण्डल द्वारा यहाँ राजफ़ार्म प्रांगण में आयोजित चार दिनी विराट् भक्ति सत्संग महोत्सव का आज विधिवत समापन हो गया। विदाई के भावुक कर देने वाले क्षणों में मिशन प्रमुख आचार्य सुधांशु जी महाराज का नागरिक अभिनंदन करके उनका सम्मान किया गया। इस अवसर पर अहमदाबाद सहित गुजरात के विभिन्न जिले से आए साधक, परिजन एवं ज्ञान जिज्ञासु हज़ारों की संख्या में मौजूद रहे।

इस मौक़े पर अहमदाबाद वासियों की कड़ी श्रद्धासिक्त मेहनत एवं उत्साह से अभिभूत आचार्य सुधांशु जी महाराज ने कहा कि मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम ने धर्म को जीवन का अभिभाज्य हिस्सा बनाने की शिक्षा देने के लिए धर्म को अपने जीवन (लीला-संदोह) में जिया।वह चीज़ जो इस दुनिया में आपको आगे बढ़ाए और परलोक तक सद्गति प्रदान करे, उसी का नाम धर्म है। जैसा अपने व अपने परिवार के लिए आप चाहते हैं वैसा ही व्यवहार दूसरों के लिए करें, वही धर्म है। उन्होंने सच्चा धार्मिक बनने की प्रेरणा सभी को दीं। इसके पूर्व महाराजश्री ने ‘’रघुनन्दन राघव राम हरे, सिया राम हरे’’ भजन सभी को सुनाकर भाव-विभोर कर दिया।

इसके पूर्व युगगायकों कश्मीरी लाल चुग, राम बिहारी एवं महेश सैनी ने कई भजन-गीत प्रस्तुत किए, वाद्य यन्त्रों पर प्रमोद राय व राहुल आनन्द ने उनका सहयोग किया। युगऋषि आयुर्वेद के सीएओ श्री के .के. जैन ने भी मातृवंदना गीत सुनाया। धर्माचार्य अनिल झा के वेद-मंत्रोच्चार के बीच श्री प्रदीप तलनानी एवं श्री माधव भाई गंगवाणी ने सपत्नीक व्यासपूजन किया।

२२ से २५ मार्च तक चले अहमदाबाद सत्संग महोत्सव के समस्त कार्यक्रमों का संचालन एवं समन्वयन मिशन मुख्यालय आनन्दधाम नयी दिल्ली से आए विजामि के निदेशक श्री राम महेश मिश्र ने किया।