आयुर्योग एक्स्पो भारतीय चिकित्सा प्रणाली का विश्व में प्रचार करेगा – श्रीपद नाइक

आचार्य लोकेश ने आयुर्योग एक्स्पो के उदघाटन समारोह को किया संबोधित

बेहतर स्वस्थ के लिए आयुर्वेद, योग और प्राकृतिक चिकित्सा आवश्यक – आचार्य लोकेश

नई दिल्ली/ शशिकांत। देश की राजधानी दिल्ली से सटे ग्रेटर नोएडा में आयोजित चार दिवसीय आयुर्योग एक्स्पो के उदघाटन सत्र के अवसर पर ‘आयुर्वेद, योग और प्राकृतिक चिकित्सा’ सम्मेलन को संबोधित करते हुये अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक आचार्य डा. लोकेश के कहा कि बेहतर स्वस्थ के लिए आज विश्व को आयुर्वेद, योग और प्राकृतिक चिकित्सा की आवश्यकता है। योग पर विश्व के सबसे बड़ी चार दिवसीय सभा ‘आयुर्योग एक्स्पो’ का आयोजन ग्रेटर नोएडा के इंडिया एक्सपोजिशन मार्ट लिमिटेड, इंडियन योग एसोसिएशन एवं आयुष मंत्रालय के सहयोग से हो रहा है।

आयुर्योग एक्स्पो का उदघाटन 7 नवंबर को हुआ जिसके अंतर्गत आयोजित ‘आयुर्वेद, योग और प्राकृतिक चिकित्सा’ सम्मेलन को आयुष मंत्री श्रीपद नाईक, आचार्य डा. लोकेश, आयुर्योग एक्स्पो कमेटी के चेयरमेन डा.एच.आर. नगेन्द्र, गौतम बुद्ध नगर के सांसद डा. महेश शर्मा, आयुष मंत्रालय के सचिव वैद्य राजेश कोटेचा, श्री राकेश कुमार, आयुर्योग एक्स्पो कमेटी के वाईस चेयरमेन वैद्य देवेंद्र त्रिगुणा, स्वामी अमृत सूर्यनन्द महाराज, महामंडलेश्वर स्वामी महेश्वरानन्द जी, एवं डा. हंसा जयदेव योगेंद्र ने संबोधित किया।

आचार्य डा. लोकेश ने कहा कि भारत की प्राचीन चिकित्सा प्रणाली आयुर्वेद, योग और प्राकृतिक चिकित्सा की आज विश्व जनमानस को आवश्यकता है। यह केवल चिकित्सा ही नहीं अपितु एक जीवन शैली है जिसको अपनाने से स्वस्थ तन, मन और बुद्धि की संरचना संभव है। मानव शरीर खुद रोगों से लडऩे में सक्षम होता है बस विधि का ज्ञान होना चाहिए। संसाधनों से समृद्ध प्रकृति से निकटता के जरिए आप सेहतमंद बने रह सकते हैं। तनाव होने पर डॉक्टर भी प्राकृतिक स्थल पर घूमने या बागवानी की सलाह देते हैं। प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति पंच महाभूतत्वों मिट्टी, पानी, धूप, हवा व आकाश पर आधारित है। इसके अंतर्गत जोड़ों का दर्द, ऑर्थराइटिस, स्पॉन्डलाइटिस, सियाटिका, पाइल्स, कब्ज, गैस, एसिडिटी, पेप्टिक अल्सर, फैटी लीवर, कोलाइटिस, माइग्रेन, मोटापा, डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, श्वांस रोग, दमा, ब्रॉनकाइटिस, त्वचा संबंधी रोगों आदि का सफलतम उपचार होता है।

डा.एच.आर. नगेन्द्र ने कहा कि 7-10 नवंबर तक चलने वाले आयुर्योग एक्स्पो में योगऋषि स्वामी रामदेव, योग शिविर लगाएंगे तो गुरुदेव श्री श्री रविशंकर, स्वामी चिदानंद सरस्वती, आचार्य डा. लोकेश,  स्वामी भारत भूषण  स्वामी अमृत सूर्यनन्द महाराज, महामंडलेश्वर स्वामी महेश्वरानन्द जी महासत्संग करेंगे, विश्व भर से 5000 से भी ज्यादा प्रतिनिधि भाग लेंगे और करीब एक लाख लोग प्रतिदिन आएंगे।