700 एकड़ जमीन और 250 आश्रम, दुनिया के कई देशों में फैला है डेरा का साम्राज्य

चंडीगढ़/ बुशरा असलम। 700 एकड़ खेती की जमीन, तीन अस्पताल, एक इंटरनेशनल आई बैंक, गैस स्टेशन, मार्केट कॉम्प्लेक्स और दुनिया में करीब 250 आश्रम के मसीहा कोई और नहीं बल्कि संत से फिल्म स्टार बने डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह है। डेरा प्रमुख का साम्राज्य भारत से लेकर अमेरिका तक फैला हुआ है। डेरा सच्चा सौदा की स्थापना 1948 में शाह मस्ताना महाराज ने की थी। शाह मस्ताना महाराज के बाद डेरा के गद्दीनशीन शाह सतनाम महाराज बने। उन्होंने 1990 में अपने अनुयायी संत गुरमीत सिंह को गद्दी सौंपी थी। इसके बाद में संत गुरमीत का नाम संत गुरमीत राम रहीम सिंह इंसां कर दिया गया। डेरा की वेबसाइट के मुताबिक, इसका हेडक्वार्टर हरियाणा के सिरसा में है। पूरी दुनिया में इसके 250 ब्रांच हैं। यह संस्था किसी भी राजनीतिक या व्यावसायिक संबंधों से अलग एक गैर-लाभकारी ट्रस्ट सोसाइटी का दावा करता है। डेरा तीन विशेष अस्पताल और एक इंटरनेशनल आई बैंक भी चलाता है।

डेरा सच्चा सौदा आश्रम करीब 68 सालों से लगातार चल रहा है। बताया जाता है कि डेरा का साम्राज्य देश से लेकर विदेश तक फैला है। अमेरिका, कनाडा, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और तो और यूएई तक इसके आश्रम और अनुयायी हैं. दुनियाभर में डेरे के करीब पांच करोड़ अनुयायी बताए जाते हैं. इनमें से करीब 25 लाख अनुयायी तो अकेले हरियाणा में हैं।

गुरमीत राम रहीम सिंह इंसां15 अगस्त को अपना जन्मदिन मनाते हैं। इस साल उन्होंने अपना 50वां जन्मदिन मनाया है। लग्जरी गाड़ियों के काफिले में चलते हैं। उनके आसपास सुरक्षाकर्मियों की पूरी फौज रहती है। महिला कमांडों भी उनकी सुरक्षा के लिए मुस्तैद नजर आती हैं। राम रहीम खुद फिल्में बनाते और उनमें अभिनय करते हैं।

डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह के खिलाफ क्या है पूरा मामला   

सिरसा स्थित डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह इंसां के खिलाफ चल रहे दुष्कर्म मामले में 25 अगस्त को कोर्ट का फैसला आना है। मामले की संवेनशीलता को देखते हुए हरियाणा सरकार ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हैं। जानकारी के मुताबिक डेरा प्रमुख खुद ही कोर्ट में पेश होंगे।

अप्रैल 2002 में डेरा सच्चा सौदा सिरसा से एक महिला अनुयायी का पत्र पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट को प्राप्त हुआ जिसमें डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम पर यौन शोषण का आरोप लगाया गया। मई 2002 में हाई कोर्ट ने सिरसा जिला न्यायाधीश को पूरे मामले की जांच के आदेश दिए। सितंबर 2002 को जिला न्यायाधीश ने प्राथमिक जांच में यौन शोषण के आरोपों के सही होने की आशंका जताई जिसके बाद हाईकोर्ट ने पूरे मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी। साल 2006 में डेरा में रह चुकी दो महिलाओं ने गुरमीत राम रहीम पर यौन शोषण का आरोप लगाते हुए सीबीआई को बयान दिए। उसके बाद सितंबर 2007 में सीबीआई ने डेरा प्रमुख के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया और फिर एफआईआर दर्ज हुई। अगस्त 2008 में आरोप पत्र दाखिल होने के बाद पंचकुला में स्पेशल सीबीआई कोर्ट में मुकदमे की सुनवाई शुरू हुई। दोनो तरफ से 150 से भी ज्यादा गवाह पेश किए गए। और 17 अगस्त 2017 को  बहस खत्म हुई। कोर्ट ने फैसले के लिए 25 अगस्त की तारीख तय की जिसमें गुरमीत राम रहीम को खुद मौजूद रहने के निर्देश भी दिए।

हिंसा से निपटने के लिए सरकार ने पूरी की तैयारी 

साध्वी यौन शोषण मामले में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह पर पंचकूला सीबीआई कोर्ट के शुक्रवार को आने वाले फैसले से पंजाब-हरियाणा फसाद के डर से सहमा हुआ है। डेरा समर्थकों की संभावित हिंसा के मद्देजनर हरियाणा सील है, तो बड़ी तादाद में पैरा-मिलिट्री फोर्स की तैनाती के साथ ही सेना को भी अलर्ट पर रखा गया है। इस बीच हरियाणा सरकार ने भी डेरा समर्थकों को समझाने के लिए सभी मंत्रियों की ड्यूटी लगा दी है। मंत्रियों को उनके निर्वाचन क्षेत्र में तैनात किया गया है।

शांति बनाए रखने की अपील 
सूत्रों का कहना है कि यदि बाबा को जेल हुई या गिरफ्तार किया गया तो उनकी चेली रूहिनियां आत्मदाह का प्रयास करेंगी और अनुयायी सडक़ों पर रास्ते रोकेंगे। हर जिले में अनुयायी विधायकों व सांसदों को मिल कर सरकार पर दबाव बना रहे हैं और बाबा को निर्दोष बता रहे हैं। उनका कहना है कि बाबा मानवता की सेवा कर रहे हैं। बाबा को जब कोर्ट या कहीं और जाना होता है तो उसके साथ लगभग 30 वाहनों का काफिला होता है। इनमें हथियारों से लैस गार्ड होते हैं। उपायुक्त व एसडीएम आश्रम में गए और 25 अगस्त को शान्ति बनाए रखने की अपील की है, उधर पुलिस अधीक्षक ने सरपंचों की मीटिंग बुलाकर शांति व्यवस्था में सहयोग की अपील की है।